अपना शहर चुनें

States

रात में साढ़े तीन बजे छात्रावास में घुसा युवक, सो रही लड़कियों के साथ किया ये सुलूक

दमोह जिले के अनुसूचित जाति जनजाति बालिका छात्रावास में रात को अपने कमरों में सो रही बालिकाओं के साथ डंडे आदि से मारपीट करने का मामला सामने आया है.
दमोह जिले के अनुसूचित जाति जनजाति बालिका छात्रावास में रात को अपने कमरों में सो रही बालिकाओं के साथ डंडे आदि से मारपीट करने का मामला सामने आया है.

दमोह जिले के अनुसूचित जाति जनजाति बालिका छात्रावास में रात को अपने कमरों में सो रही बालिकाओं के साथ डंडे आदि से मारपीट करने का मामला सामने आया है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के दमोह जिले के अनुसूचित जाति जनजाति बालिका छात्रावास में रात को अपने कमरों में सो रही बालिकाओं के साथ डंडे आदि से मारपीट करने का मामला सामने आया है. मामले के बाद पुलिस मामला कायम कर जांच कर रही है.

मामला दमोह के शासकीय छात्रावास का है, जहां एक युवक भूपेंद्र ने रात को करीब साढ़े तीन बजे खिडकी खोलकर लाठी से मारपीट कर दी. जिसके बाद चिल्लाई छात्राओं से केयर टेकर ने पता किया तो दो बालिकाओं के साथ मारपीट किए जाने का मामला सामने आया. वहीं इसी आरोपी द्वारा अन्य छात्राओं पर खुजली वाला पाउडर डाले जाने का मामला भी सामने आ रहा है. नाबालिक छात्राओं ने मामले की शिकायत जबलपुर नाका चौकी में की है.

शासकीय बालिका छात्रावास की बालिकाओं के साथ रात के समय खिड़की को खोलकर डंडे से की गई मारपीट के बाद राज्य महिला आयोग की जिला सखी ने भी मौके पर पहुंचकर मामले को संज्ञान में लिया. साथ ही पुलिस चौकी पहुंचकर मामला दर्ज कराया है. वहीं इस घटना को राज्य महिला आयोग तक पहुंचाने की बात कही है.



अनुसूचित जाति जनजाति बालिका छात्रावास में रात के समय खिड़की खोलकर डंडे से की गई मारपीट के बाद चौकी प्रभारी ने मामला संज्ञान में लेकर मामला कायम किया है. साथ ही आरोपी की तलाश शुरू कर दी है.
रात के समय छात्राओं के कमरों की खिड़की को खोलकर डंडे से मारपीट करने वाले आरोपी भूपेंद्र का मकान छात्रावास की दीवार से लगा हुआ है. यहां पर लोग अनाधिकृत रूप से पशु आदि भी बांधते है. वहीं जगह जगह से बाउंडी बाल भी टूटी है. ऐसे में छात्रावास की छात्राओं की सुरक्षा संदेह के घेरे में कही जा सकती है. साथ ही शासन की ओर से तमाम सुविधाओं के बाद रात के समय इस प्रकार से छात्राओं के कमरों की खिडकी खोलकर डंडे से मारपीट कर छात्राओं को घायल कर देना यहां की सुरक्षा पर सवाल खड़े करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज