vidhan sabha election 2017

MP में एक और किसान ने की आत्महत्या, कर्ज बताई जा रही वजह

Ashish Jain | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: November 15, 2017, 9:05 AM IST
MP में एक और किसान ने की आत्महत्या, कर्ज बताई जा रही वजह
बैंक और साहूकारों के कर्ज से परेशान था किसान.
Ashish Jain | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: November 15, 2017, 9:05 AM IST
मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में सूखे से इलाके किसान काफी परेशान है. फसल तबाह होने के बाद कर्ज न चुका पाने के कारण किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं. दमोह जिले काकरा भोजपुर गांव के किसान ने सोमवार को बैंक और साहूकार का कर्ज न चुका पाने के कारण आत्महत्या कर ली.

काकरा भोजपुर के किसान रामा पटेल के पास कुल सात एकड़ जमीन थी. प्राकृतिक आपदाओं की वजह से हर साल किसानों की फसल बर्बाद हो रही है. अच्छी फसल की उम्मीद में रामा पटेल ने बैंक और साहूकारों से कर्ज लिया था, लेकिन इस बार भी फसल बर्बाद होने के कारण रामा ने आत्महत्या कर ली.

किसान रामा पटेल ने सोमवार देर रात अपने घर में रखा कीटनाशक पीकर जान दे दी. परिवार वाले जब तक रामा को दमोह अस्पताल लेकर आते तब तक किसान दम तोड़ चुका था. किसान रामा के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है.

इस सुसाइड नोट में दो नामों का जिक्र किया गया है और मौत की वजह बताया है. ये नाम इलाके के दो साहूकारों के हैं रामा के परिवार वालों की माने तो बैंक वाले कर्ज चुकाने के लिए दबाव बना रहे थे. जिसके लिए रामा ने साहूकारों से कर्ज लिया और जब उनका कर्ज अदा नहीं हुआ, तो दो दिन पहले ही इन दोनो साहूकारों ने दमोह में रामा के साथ बदसलूकी और मारपीट की थी.

आत्महत्या करने वाले किसान के बेटे हरिराम ने बताया कि उड़द की फसल खराब होने के बाद से उसके पिता जी को कर्ज की चिंता सताने लगी थी. सोमवार को ही उन्होंने साहूकारों से कर्ज लेकर बैंक में पैसा जमा कराया था. इस बात पर साहूकार मुकेश यादव और साबिर खान ने उन्हें सरेआम बेइज्जत किया और खुदकुशी की वजह यही है.

पुलिस ने मामल दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है. पुलिस इसे आत्महत्या तो मान रही है, लेकिन फिलहाल जांच का हवाला देकर खामोश है. किसान के पास से बरामद हुए सुसाइड नोट को लेकर भी पुलिस जांच करने की दलील दे रही है.
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर