Assembly Banner 2021

इस स्कूल के गर्ल्स टॉयलेट में बनता है खाना, छात्राएं शौच के लिए जाती हैं बाहर

गर्ल्स टॉयलेट में मध्यान्ह भोजन का निर्माण किया जा रहा है.

गर्ल्स टॉयलेट में मध्यान्ह भोजन का निर्माण किया जा रहा है.

जब टॉयलेट में खाना बनाया जाता है, तो इस शौचालय में बालिकाओं को जाने के लिए जगह नहीं बचती और बच्चे खुले में शौच आदि जाने मजबूर होते हैं

  • Share this:
मध्यप्रदेश सरकार भले ही करोड़ो का बजट बनाकर प्रदेश में स्कूलों का निर्माण कराए, स्वच्छ भारत अभियान को अमली जामा पहनाने के लिए शौचालय का निर्माण कराए, लेकिन ग्रामीण स्कूलों में स्थिति इसके उलट है.

दरअसल, दमोह जिले में एक ऐसे स्कूल का मामला सामने आया है जहां गर्ल्स टॉयलेट में मध्यान्ह भोजन का निर्माण किया जाता है. जब टॉयलेट में खाना बनाया जाता है, तो इस शौचालय में बालिकाओं को जाने के लिए जगह नहीं बचती और वो खुले में शौच आदि जाने मजबूर होती हैं.

मामला जिले के पटेरा विकासखंड के कुम्हारी का है, जहां माध्यमिक स्कूल में किचन शेड के अभाव के चलते बालिका शौचालय में ही किचन का संचालन हो रहा है. यहां पर खाना बना रही रसोईया का कहना है कि स्कूल के शिक्षकों ने ही शौचालय में खाने पीने का सामान रखने की अनुमति दी है. यही कारण है कि वो यहां पर मध्यान्ह भोजन का निर्माण करती हैं.



खास बात ये है कि इस मामले से जिले के अधिकारी अनजान हैं. उनका कहना है कि उनको इस लापरवाही की जानकारी नहीं थी. उन्होंने कहा कि जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज