VIDEO: महिलाओं ने उतारी चप्पल तो नाले में कूदकर पुलिस ने बचायी जान

मज़दूर हाथ में लाठियां लिए हुए थे. वो पुलिस वालों को बख़्शने के मूड में नहीं थे. मज़दूरों का कहना है कि पुलिस वाले उन्हें थाने ले गए और मारपीट की.

Ashish Jain | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 3, 2018, 8:09 PM IST
Ashish Jain
Ashish Jain | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 3, 2018, 8:09 PM IST
दमोह के तेंदुखेड़ा में गुस्साए मज़दूर पुलिस पर टूट पड़े. महिला श्रमिकों ने अपनी चप्पलें उतार लीं और मज़दूर पुलिस को पीटने के लिए भागे. पुलिस वाले जैसे-तैसे भाग कर अपनी जान बचा पाए. दमोह-जबलपुर हाईवे घंटों जाम रहा. यहां तक कि मंत्री जालम सिंह का काफ़िला भी इन मज़दूरों ने नहीं गुजरने दिया.

गुरुवार देर रात पुलिस ने चैकिंग के दौरान मज़दूरों से भरी गाड़ी रोक कर चालान काटा था. मज़दूरों का कहना है कि पुलिस वाले उन्हें थाने ले गए और मारपीट की. महिलाओं से दुर्व्यवहार किया गया. बस इससे गुस्साए मज़दूर शुक्रवार सुबह होते ही दमोह जबलपुर स्टेट हाइवे पर जमा हो गए. पुलिस के पहुंचते ही पहले तो उन्होंने बहस की और फिर चारों ओर से घेर लिया.

मज़दूर हाथ में लाठियां लिए हुए थे. वो पुलिस वालों को बख़्शने के मूड में नहीं थे.  देर तक दोनों तरफ से झूमाझटकी और धक्का-मुक्की होती रही. महिलाओं ने तो चप्पलें उतार लीं. चारों ओर से खुद को घिरता देख पुलिस वाले जान बचाकर भागे. मज़दूर उनके पीछे भागे. पुलिस वाले ने नाले में कूदकर अपनी जान बचायी.

उसी दौरान मंत्री जालम सिंह का काफ़िला वहां से गुज़रा. लेकिन हालात इस कदर बिगड़ चुके थे कि मज़दूरों ने उनकी गाड़ी भी नहीं निकलने दी. जालम सिंह ने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन वो नहीं माने. हालात को देखते हुए भारी पुलिस बल मौके पर भेजा गया.

ये भी पढ़ें -MP: सहायक समिति प्रबंधक के ठिकानों पर लोकायुक्त का छापा, आय से अधिक संपत्ति का                  मामला

ड्राइवर ने स्कूल बस रिवर्स की और 5 साल की बच्ची को कुचल दिया, भीड़ ने लगा दी आग
First published: August 3, 2018, 5:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...