विधायकी छोड़ BJP में शामिल हुए राहुल लोधी का विरोध शुरू, कांग्रेसियों ने पोस्टर पर पोती कालिख

कांग्रेसियों ने दमोह में राहुल लोधी के पोस्टर जलाए.
कांग्रेसियों ने दमोह में राहुल लोधी के पोस्टर जलाए.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में दमोह से कांग्रेस विधायक (Congress MLA) राहुल सिंह लोधी (Rahul Singh Lodhi) के विधायक पद से इस्तीफा एवं BJP में शामिल होने पर कांग्रेस कार्यकताओं ने उनका विरोध किया है.

  • Share this:
दमोह. मध्य प्रदेश के दमोह से कांग्रेस विधायक (Congress MLA) राहुल सिंह लोधी (Rahul Singh Lodhi) के इस्तीफा देने और बीजेपी (BJP) में शामिल होने के बाद उनका विरोध शुरू हो गया है. दमोह जिला कांग्रेस के आक्रोशित कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए और राहुल सिंह लोधी का जमकर विरोध किया. उनके पोस्टर पर कालिख तक पोती गई. बाद में उनके पोस्टर में उनके चेहरे वाली जगह पर आग भी लगा दी गई. इस दौरान कांग्रेसी राहुल लोधी के खिलाफ नारेबाजी करते रहे. साथ ही उनपर गंभीर आरोप भी लगाए.

मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव की तिथि नजदीक आते ही प्रदेश में पहले से ही राजनीतिक घमासान मचा हुआ था. इस बीच, बीते रविवार को राहुल सिंह लोधी ने कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए विधायक पद से इस्तीफा दे दिया. त्‍यागपत्र के एक घंटे बाद उन्होंने बीजेपी ज्वाइन करके प्रदेश की राजनीति में हलचल मचा दी. इतना ही नहीं 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी द्वारा बनाए गई रणनिति एक बार दोबारा धराशायी होती नजर आ रही है. कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं.





कांग्रेसियों ने जमकर की नारेबाजी
कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए राहुल सिंह लोधी के खिलाफ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया. इसके अलावा 'हिंडोरिया के गद्दारों को जूता मारो..' का नारा भी लगाया. बता दें कि राहुल सिंह से पहले उनके ही परिवार के हिंडोरिया निवासी प्रद्युम्न सिंह लोधी भी कांग्रेस छोड़ कर के कुछ ही दिन पहले बीजेपी में शामिल हुए थे. इससे जिले के कांग्रेसियों में लोधी परिवार को लेकर पहले ही आक्रोश था. दमोह के यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष अभिषेक डिमहा का कहना है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने भरोसा जताते हुए दमोह संसदीय क्षेत्र की दो सीटों पर हिंडोरिया निवासी लोधी परिवार के दोनों युवाओ को दमोह विधानसभा एवं बड़ा मलाहरा सीट से उम्मीदवार बनाया था और दोनों ने जीत दर्ज कराई थी. एक ही परिवार के कांग्रेस से विधायक दोनों भाइयों का विधायक पद से त्यागपत्र देकर बीजेपी में शामिल होना कांग्रेस के साथ साथ क्षेत्र की जनता के लिए भी एक बड़ा धोखा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज