‘मामा’ का शायराना अंदाज, किसान कर्जमाफी पर कमलनाथ से पूछा...

फाइल फोटो

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने कहा था ‘दो लाख तक का कर्ज माफ करेंगे, लेकिन नहीं किया. "क्या हुआ तेरा वादा वो कसम वो इरादा" यह बात जब हम कमलनाथ से पूछते हैं तो वह कहते हैं "भूल गया सब कुछ, याद नहीं अब कुछ".

  • Share this:
    मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव 2019 का खुमार चढ़ गया है. पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ताबड़तोड़ सभाएं कर बीजेपी प्रत्याशियों को जिताने की अपील कर रहे हैं. इसी क्रम में दमोह जिले के सिंग्रामपुर में आम सभा को संबोधित करने पहुंचे ‘मामा’ कुछ अलग ही अंदाज में नजर आए. यहां उन्होंने शायरी व गानों के जरिए कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा.

    प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर तंज कसते हुए शिवराज ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने कहा था ‘दो लाख तक का कर्ज माफ करेंगे, लेकिन नहीं किया. "क्या हुआ तेरा वादा वो कसम वो इरादा" यह बात जब हम कमलनाथ से पूछते हैं तो वह कहते हैं "भूल गया सब कुछ, याद नहीं अब कुछ". किसान भाइयों आप बताओ 48 हजार करोड़ का क्या कर्जा माफ हो सकता है. नहीं हो सकता. "पैसा ना धेला सिंग्रामपुर का मेला" कमलनाथ कहते हैं कर्जा माफ.’

    इसी दौरान सभा मे किसी किसान ने कहा कि धान का पैसा अभी नहीं आया. इस पर शिवराज ने कहा "आगे-आगे देखिए होता है क्या. मामा ही याद आएगा"

    युवाओं को बेरोजगारी भत्ता एवं रोजगार देने वाले कमलनाथ सरकार के वादे पर तंज कसा. उन्होंने कहा कमलनाथ प्रदेश के युवाओं के लिए अनोखा रोजगार ढूंढ कर लाए हैं. उन्होंने कहा ‘ कमलनाथ कहते हैं कि हम गाय चराने की ट्रेनिंग देंगे. बैंड बाजा बजाने की ट्रेनिंग देंगे, बंदर पकड़ने की ट्रेनिंग देंगे, बंदर नचाने की ट्रेनिंग देंगे.’ कमलनाथ सरकार रोजगार के नाम युवाओं के साथ मजाक कर रही है.

    शिवराज ने कहा कि कमलनाथ सरकार उस चूहे की तरह है जिसपर साधू ने तरस खाकर पहले बिल्ली बनाया, फिर कुत्ता,शेर बनाया. लेकिन जब वह साधु को ही खाने के लिए दौड़ा तो उसे फिर से चूहा बना दिया. इसी तरह जनता ने कमनाथ को सीएम बनाया, लेकिन वह जनता का काम नहीं कर रहे हैं. जनता उन्हें 6 मई को कमल का बटन दबाकर फिर से चूहा बना देगी.

    ( दमोह से धर्मेश पाण्डेय की रिपोर्ट )

    ये भी पढ़ें- ये वही दिग्गी राजा हैं, जो जाकिर नाइक के दरबार में जाकर उसकी

    ये भी पढ़ें- पीएम मोदी पर कमलनाथ का तंज, 'आपकी जानकारी दुरुस्त कर दूं'
    First published: