अपना शहर चुनें

States

MP: गंदे नाले का पानी पीने को मजबूर हैं आदिवासी

पिछले तीन महीनों से ये लोग यही पानी पी रहे हैं
पिछले तीन महीनों से ये लोग यही पानी पी रहे हैं

तीन महीनो में गांव के करीब बीस बच्चे बीमारी का शिकार हुए हैं और हर दिन गांव में कोई ना कोई बीमार हो रहा है

  • Share this:
मध्यप्रदेश में विकास के दावों का भले ही दम भरा जा रहा हो, सरकार कई योजनाएं ला रही हो लेकिन जमीनी हकीकत बेहद कड़वी है और इस सूबे के लोग गंदे नाले का पानी पीने मजबूर हैं.

दरअसल, दमोह जिले के हटा ब्लाक के आदिवासी बाहुल्य गांव शिवपुर के हालात ऐसे ही हैं. अपनी प्यास बुझाने के लिए दिन-रात एक करने वाले यहां के बाशिंदे पानी के लिए भटक रहे हैं. और आखिरकार गांव के पास से गुजरने वाला एक नाला इनकी प्यास बुझा रहा है.

आदिवासी इसी गंदे नाले का पानी भरकर अपने घर ले जाते है और फिर जितना साफ़ हो सके साफ़ करने के बाद यही पानी पीते हैं. ये सब एक दो दिन से नहीं बल्कि पिछले तीन महीनों से ये लोग यही पानी पी रहे हैं. वजह सिर्फ इतनी की दो सौ की आबादी वाले इस पहाड़ी गांव में सरकार ने कुछ महीनों पहले ही एक हेण्डपम्प लगाया था लेकिन तीन महीने पहले ये हेण्डपम्प खराब हो गया.



तब से लेकर आज तक ये लोग महज एक हेण्डपम्प को सुधारने की मांग जिम्मेदारों से करते रहे हैं. यहां तक कि गांव के एक पढ़े-लिखे आदिवासी ने शिकायत सीएम हेल्पलाइन में भी की लेकिन इस हेल्पलाइन का सहारा भी इस आदिवासी गावं को नहीं मिला और प्यास से तड़पते आदिवासी गंदा पानी पीने मजबूर हैं.
ग्रामीण बताते हैं कि तीन महीनो में गांव के करीब बीस बच्चे बीमारी का शिकार हुए हैं और हर दिन गांव में कोई ना कोई बीमार हो रहा है. बावजूद इसके कोई भी इन गरीब आदिवासियों की तरफ ध्यान नहीं दे रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज