अपना शहर चुनें

States

कर्ज, किसान और खुदकुशीः एमपी में 24 घंटे में दो किसानों ने की आत्महत्या

प्रतीकात्मक तस्वीर
 (getty image)
प्रतीकात्मक तस्वीर (getty image)

मध्य प्रदेश में किसानों की आत्महत्या का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कर्ज और सूदखोरों के दवाब से परेशान होकर दो किसानों ने मंगलवार को जान दे दी. ये घटनाएं दमोह और गुना जिले की हैं.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में किसानों की आत्महत्या का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कर्ज और सूदखोरों के दवाब से परेशान होकर दो किसानों ने मंगलवार को जान दे दी. ये घटनाएं दमोह और गुना जिले की हैं.

पुलिस के अनुसार, दमोह जिले के पथरिया थाने के अंतर्गत आने वाले कांकर गांव के किसान रामा पटेल (55) ने कई सूदखोरों से कर्ज लिया था. फसल चौपट होने पर वह दूध बेचकर अपने परिवार का भरण-पोषण कर रहा था. उसे सूदखोरों ने धमकाना शुरू किया, तो उसने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया.

पथरिया क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस (एसडीओपी) प्रवीण भूरिया ने बताया कि रामा पटेल ने मंगलवार की सुबह कीटनाशक पी लिया, उसे गंभीर हालत में दमोह चिकित्सालय लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.



भूरिया के मुताबिक, मृतक ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें कर्ज देने वालों द्वारा परेशान किए जाने की बात लिखी गई है. पुलिस मामले की जांच कर रही है और संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
इसी तरह गुना जिले के उकामद कलां गांव के युवा किसान सुमेर सिंह (32) ने मंगलवार की सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. बम्हौरी पुलिस के मुताबिक, परिजनों का कहना है कि सुमेर ने कर्ज लेकर ट्रैक्टर खरीदा था, मगर वह किस्त नहीं चुका पा रहा था. तनाव में आकर उसने आत्महत्या की है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. इस घटना में कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज