Assembly Banner 2021

जिला अस्पताल की लापरवाही, गेट पर हुई डिलीवरी

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार लाख दावा करे कि प्रदेश में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं. लेकिन लगातार प्रदेश के अस्पतालों में होने वाली लापरवाही एवं अनदेखी के मामले इन दावों की पोल खोलने के लिए काफी है

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार लाख दावा करे कि प्रदेश में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं. लेकिन लगातार प्रदेश के अस्पतालों में होने वाली लापरवाही एवं अनदेखी के मामले इन दावों की पोल खोलने के लिए काफी है

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार लाख दावा करे कि प्रदेश में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं. लेकिन लगातार प्रदेश के अस्पतालों में होने वाली लापरवाही एवं अनदेखी के मामले इन दावों की पोल खोलने के लिए काफी है

  • Share this:
मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार लाख दावा करे कि प्रदेश में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं. लेकिन लगातार प्रदेश के अस्पतालों में होने वाली लापरवाही एवं अनदेखी के मामले इन दावों की पोल खोलने के लिए काफी है.

मामला दमोह जिला अस्पताल का है. मंगलवार की रात आई एक महिला को पर्ची बनाने में देरी के चलते गेट के पास मौजूद सीमेंट की कुर्सी पर बिठा दिया. महिला ने वहीं बच्ची को जन्म दिया.

जिले के मडला ग्राम निवासी बैजनाथ अहिरवार की पत्नी जानकी को प्रसव पीडा होने के बाद जिला अस्पताल लाया गया था. लेकिन अस्पताल के गेट पर ही तेज दर्द होने के बाद महिला को पास ही सीमेंट की कुर्सी पर ही लिटा दिया गया. जहां पर महिला ने बालिका को जन्म दिया.



महिला की डिलेवरी के आधे घंटे बाद यहां पर नर्सिंग स्टाफ पहुंचा. इस दौरान महिला के परिजन परेशान होते रहे.
लोगों का कहना है कि दमोह जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों को परेशान होने के बाद ही इलाज नसीब हो पाता है. यहां पर घंटो तो पर्ची बनाने में ही लग जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज