MP By-election: भांडेर में भाजपा की रक्षा सिरोनिया ने कांग्रेस के फूल सिंह बरैया को हराया, ये है जीत की 3 वजह

दलित नेता के रुप में पहचाने जाने वाले फूल सिंह बरैया दलित वोटों को अपनी तरफ खींचने में नाकाम रहे.
फोटो क्रेडिट:- Facebook
दलित नेता के रुप में पहचाने जाने वाले फूल सिंह बरैया दलित वोटों को अपनी तरफ खींचने में नाकाम रहे. फोटो क्रेडिट:- Facebook

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) उपचुनाव में भांडेर सीट (Bhander Vidhan Sabha constituency) पर भाजपा की रक्षा सिरोनिया (Raksha Sironia) ने जीत दर्ज की है. उन्होंने कांग्रेस के फूल सिंह बरैया (Phool Singh Baraiya) को मात दी है. जानिए रक्षा सिरोनिया की जीत के तीन प्रमुख कारण...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 5:04 PM IST
  • Share this:
भांंडेर. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के दतिया (Datia) जिले के भांडेर विधानसभा सीट (Bhander Vidhan Sabha constituency) के लिए हुए उपचुनाव (By election) में कांग्रेस के फूल सिंह बरैया (Phool Singh Baraiya) को भाजपा प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया (Raksha Sironia) ने हरा दिया है. इस सीट पर दलित राजनीति का सर्वाधिक जोर था, जिसका फायदा सबसे ज्यादा रक्षा सिरोनिया को मिला. प्रदेश के सबसे बड़े दलित नेता के रुप में पहचाने जाने वाले फूल सिंह बरैया दलित वोटों को अपनी तरफ खींचने में नाकाम रहे. बता दें कि हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए बरैया की वजह से यह सीट काफी चर्चा में थी. इसके पहले बरैया बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष हुआ करते थे. हालांकि, 2018 में कांग्रेस के टिकट पर जीतीं रक्षा सिरोनिया इस बार फिर से भाजपा के टिकट से विधानसभा पहुंचने में सफल रहीं. ऐसे में आइए जानते हैं 1.75 लाख मतदाताओं वाले भांडेर सीट पर क्या रही सिरोनिया के जीत की 3 प्रमुख वजह...
1. फूल सिंह बरैया भले ही सबसे बड़े दलित नेता रहे हों, लेकिन बसपा में रहते हुए उन्होंने लक्ष्मी बाई, ब्राह्मणों और धर्म के खिलाफ कई विवादित बयान दिए थे. इससे सवर्ण वोटर नाराज था और उसने रक्षा सिरोनिया को चुना.
2. विधायक बनने के बाद से लोगों के फोन न उठाने वाली रक्षा सिरोनिया बेहद सरल स्वभाव की हैं. क्षेत्र में जब लोगों ने उनसे ऐसी शिकायतें कीं तो उन्होंने गलती मान ली और उनके पैर छूने लगीं. अपनी गलती मानने की रक्षा के इस अदा को जनता ने पसंद किया.
3. यहां पर शिवराज सिंह चौहान का असर काफी ज्यादा है. उन्होने 2-3 बार क्षेत्र का दौरा किया जिससे रक्षा सिरोनिया के पक्ष में माहौल बना और वे जीत गईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज