गर्मी के कारण 14 हिरणों की मौत
Dewas News in Hindi

गर्मी के कारण 14 हिरणों की मौत
मध्य प्रदेश में गर्मी कहर बन गई है। तेज धूप के साथ चल रही लू अब मौत का कारण बनने लगी है। इंसान तो क्या, पशु भी इस गर्मी से हलकान हैं। देवास जिले में पानी की कमी के चलते 14 हिरणों की मौत हो गई है।

मध्य प्रदेश में गर्मी कहर बन गई है। तेज धूप के साथ चल रही लू अब मौत का कारण बनने लगी है। इंसान तो क्या, पशु भी इस गर्मी से हलकान हैं। देवास जिले में पानी की कमी के चलते 14 हिरणों की मौत हो गई है।

  • Agencies
  • Last Updated: June 1, 2014, 5:16 PM IST
  • Share this:
मध्य प्रदेश में गर्मी कहर बन गई है। तेज धूप के साथ चल रही लू अब मौत का कारण बनने लगी है। इंसान तो क्या, पशु भी इस गर्मी से हलकान हैं। देवास जिले में पानी की कमी के चलते 14 हिरणों की मौत हो गई है।

राज्य में गर्मी अपने पूरे शवाब पर है। तापमान 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। आलम यह है कि सुबह से ही धूप और गर्मी का जोर सबको परेशान कर देता है, दोपहर में तो धूप आग बनकर बरसने लगती है। यही कारण है कि दोपहर के वक्त जिंदगी थम सी जाती है। बाजारों में सन्नाटा पसर जाता है और इस स्थिति में गर्मी से बचने का सहारा सिर्फ शीतल जल और कूलर की हवाएं ही रह जाती हैं।

गर्मी की तेजी से बचने के लिए इंसान तो रास्ता खोज लेता है, मगर पशु अपने आपको असहाय महसूस करते हैं। उन्हें न तो आसानी से छाया मिल पाती है और न ही पीने के लिए पानी। पशुओं का बीमार पड़ना और मौत के करीब पहुंचना इसी का नतीजा है।



राज्य के अन्य हिस्सों की तरह देवास में भी तापमान 45 डिग्री के आसपास बना हुआ है। बढ़ती गर्मी के कारण ही देवास जिले के खातेगांव परिक्षेत्र के सन्नोद, घोडीघाट व चंदवाना में शनिवार को 14 हिरणों की मौत हो गई थी, जिनमें छह नर और आठ मादा हिरणें थीं।
इस गर्मी में प्रदेश में अब तक की यह सबसे बड़ी घटना है, जिसमें एक साथ इतनी बड़ी संख्या में जानवरों की गर्मी के चलते मौत हुई है। पशु चिकित्सक डा. मांगू भी हिरणों की मौत की प्रथम दृष्टया वजह गर्मी और पानी की कमी मान रहे हैं।

गर्मी के चलते एक साथ 14 मौतों को वन विभाग की लापरवाही से भी जोड़ा जा रहा है। वन विभाग के अनुविभागीय अधिकारी प्रदीप पाराशर के अनुसार, छह हिरण एक जगह से और आठ हिरण एक अन्य जगह से मृत अवस्था में पाए गए। भीषण गर्मी के चलते इनकी मौतें हुई हैं।

बढ़ती गर्मी को देखते हुए जहां इंसान ने अपने घरों में कूलर व एयर कंडीशनर लगा रखे हैं, वहीं इंदौर सहित राज्य के अन्य चिड़ियाघरों में जानवरों को गर्मी से बचाने के भी इंतजाम किए गए हैं। जंगल में विचरण करने वाले जानवरों के लिए क्या इंतजाम किए गए हैं, इसकी देवास की घटना बानगी है, जहां एक साथ 14 हिरण गर्मी के चलते काल के गाल में समा गए।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज