देवास: 26 अप्रैल तक बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू, बिना मास्क बेवजह घूमते मिले तो होगी 4 घंटे की जेल

देवास में लॉकडाउन 26 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया है.

देवास में लॉकडाउन 26 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया है.

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में 26 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है. सुबह 7 से 10 बजे तक ढील रहेगी. पुलिस को सख्ती से बंद कराने के आदेश दिए गए हैं.

  • Last Updated: April 18, 2021, 9:10 PM IST
  • Share this:
देवास. मध्य प्रदेश के देवास जिले में 26 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है. सुबह 7 से 10 बजे तक रहेगी ढील, इसके बाद पुलिस को सख्ती से बंद कराने के आदेश दिए गए हैं. ये निर्णय जिला क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में लिया गया है. बता दें कि अभी तक देवास में तीसरी बार लाॅकडाउन बढ़ाया गया है. रेमडेसिविर इंजेक्शन किस अस्पताल काे कितने दिए, कितने लगे, अब सूची जारी होगी. बिना मास्क एवं बेवजह घूमने वालों को 4 घंटे की अस्थायी जेल पर भेजा जाएगा.

देवास में लाॅकडाउन 26 अप्रैल सुबह 6 बजे तक के लिए बढ़ा दिया गया है. वहीं रविवार को जारी हुए बुलेटिन में 96 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या आई है. जिसके चलते अब सख्ती ज्यादा रहेगी, सोमवार से बढ़ाए गए कोरोना कर्फ्यू में सिर्फ तीन घंटे सुबह सात से दस बजे तक रोज ढील रहेगी. काेविड-19 के बढ़ते संक्रमण काे राेकने कलेक्टाेरेट के सभाकक्ष में हुई जिला क्राईसिस मैनेजमेंट की बैठक में यह निर्णय सभी की सहमति से लिया गया है.

तय हुआ कि काेराेना के केस बढ़ रहे हैं, ऐसे में काेराेना की चेन ताेड़ने लाॅकडाउन काे बढ़ाना जरूरी है, साथ ही सख्ती भी आवश्यक है, ताकि लाेग बहुत जरूरी हाेने पर ही घर से निकलें, और प्राेटाेकाल का पूरी तरह से पालन करें, यह हाेगा तभी काेराेना काे कंट्राेल किया जा सकता है. काेराेना महमारी की स्थिति काे कलेक्टर चंद्रमाैली शुक्ला ने जिले की प्रभारी मंत्री ऊषा ठाकुर, सांसद महेंद्र सिंह साैलंकी के सामने रखा.

तीसरी बार बढ़ाया गया लॉकडाउन 
अब तक देवास में तीसरी बार बढ़ाया गया है लाॅकडाउन. सबसे पहले: 9 अप्रैल की शाम छह बजे से 12 अप्रैल की सुबह छह बजे तक. दूसरी बार: 11 अप्रैल काे आदेश जारी हुआ, जिसमें 19 अप्रैल तक लाॅकडाउन बढ़ाया गया. तीसरी बार: 17 अप्रैल काे बैठक में तय हुआ. 26 अप्रैल की सुबह छह बजे तक लाॅकडाउन बढ़ाया गया.

रेमडेसिविर को लेकर भ्रामक प्रचार न करें: प्रभारी मंत्री

प्रभारी मंत्री ऊषा ठाकुर ने कहा कि डॉक्टर रेमडेसिविर इंजेक्शन के बारे में भ्रामक प्रचार ना करे. इस इंजेक्शन का उपयोग आवश्यक हो तो ही करें. बैठक में कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला ने बताया कि जिले में वैक्सीनेशन का कार्य सतत जारी है. इसके लिए 60 केंद्र बनाए गए हैं. जिले में अभी तक 141971 से अधिक लोगों कोविड-19 की वैक्सीन लगाई गई है. विकासखंड स्तर पर भी कोविड-19 के बेड सेंटर बनाए गए हैं. नर्सिंग कॉलेज में कोविड-19 केयर सेंटर आगामी एक-दो दिन में चालू हो जाएगा. जिसमें कुछ बेड वैकल्पिक तौर पर 50 बेड रविवार से ही शुरू कर देंगे। इसमें मरीजों को एडमिड करना प्रारंभ कर देंगे. बैठक बाद प्रभारी मंत्री ने मीडिया से कहा कि इंजेक्शन को लेकर रोज शाम को बुलेटिन जारी करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज