होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

सास से नाराज जमाई राजा नदी में कूदे, मौत सामने देख चिल्लाने लगे-बचाओ बचाओ Video

सास से नाराज जमाई राजा नदी में कूदे, मौत सामने देख चिल्लाने लगे-बचाओ बचाओ Video

Dewas Samachar : नदी में कूदे युवक को बचाने के लिए दो स्थानीय लोग देवदूत बनकर आए और उसे बचा लिया.

Dewas Samachar : नदी में कूदे युवक को बचाने के लिए दो स्थानीय लोग देवदूत बनकर आए और उसे बचा लिया.

OMG : कैलाश आधी रात में नदी में कूद गया था. गनीमत रही कि वो एक पत्थर पर जा कर टिक गया. इसकी वजह से वह डूब नहीं पाया. बारिश और अंधेरे में चारों ओर उफनती नदी में मौत को सामने देखकर उसके पसीने छूट गए. उसे अब अपनी जान प्यारी लगने लगी. वो जोर जोर से बचाओ बचाओ चिल्लाने लगा. करीब एक घंटे बाद उसकी आवाज आसपास के दुकानदारों औऱ लोगों तक पहुंची. जाकर देखा तो एक आदमी पत्थर पर खड़ा हुआ था और चिल्ला रहा था. क्षिप्रा किनारे रहने वाले निक्की प्रजापति और उनका साथी भोला प्रजापति दोनों ने उसे बचाने के लिए नदी में कूद पड़े और कैलाश पाटोले को नदी से निकाल कर बाहर ले आए.

अधिक पढ़ें ...

देवास. देवास में अजब तमाशा हुआ. लेकिन इस तमाशे ने एक की जिंदगी बचा ली. यहां सास से झगड़े के बाद एक युवक ने क्षिप्रा नदी में छलांग लगा दी. लेकिन उसकी किस्मत में तो जिंदगी लिखी थी. इसलिए बारिश में लबालब क्षिप्रा नदी ने उसे बचा लिया.

क्षिप्रा को मोक्षदायिनी कहा जाता है. इसलिए उसने मौत के इरादे से पानी में कूदे युवक को डूबने से बचा लिया. युवक गुस्से में आकर क्षिप्रा नदी में कूद पड़ा था. लेकिन मौत को सामने देख उसके पसीने छूट गए. वो खुद को बचाने के लिए जोर जोर से चिल्लाने लगा. नदी किनारे रह रहे लोगों ने फौरन उसकी जान बचा ली.

आधी रात में आवाज आयी बचाओ बचाओ
देवास में क्षिप्रा नदी किनारे आधी रात में अचानक बचाओ बचाओ की आवाज आने लगी. नदी किनारे रहने वाले लोग आवाज सुनकर दौड़े. बारिश के बीच अंधेरे में बड़ी मुश्किल से दिखाई दिया कि नदी के बीचों बीच एक चट्टान पर कोई शख्स फंसा हुआ है और बचाने के लिए चिल्ला रहा है. दो युवक नदी में कूदे और उस तीसरे शख्स को नदी में से सही सलामत निकालकर ले आए. घटना रात करीब 12 बजे की है. युवक की पहचान कैलाश पाटोले के तौर पर हुई है.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस जिला प्रभारियों की नियुक्ति को लेकर विवाद : सवर्णों का बोलबाला, आदिवासियों को नहीं मिली जगह

मौत को देख पसीने छूटे
कैलाश आधी रात में नदी में कूद गया था. गनीमत रही कि वो एक पत्थर पर जा कर टिक गया. इसकी वजह से वह डूब नहीं पाया. बारिश और अंधेरे में चारों ओर उफनती नदी में मौत को सामने देखकर उसके पसीने छूट गए. उसे अब अपनी जान प्यारी लगने लगी. वो जोर जोर से बचाओ बचाओ चिल्लाने लगा. करीब एक घंटे बाद उसकी आवाज आसपास के दुकानदारों औऱ लोगों तक पहुंची. जाकर देखा तो एक आदमी पत्थर पर खड़ा हुआ था और चिल्ला रहा था. क्षिप्रा किनारे रहने वाले निक्की प्रजापति और उनका साथी भोला प्रजापति दोनों ने उसे बचाने के लिए नदी में कूद पड़े और कैलाश पाटोले को नदी से निकाल कर बाहर ले आए.

सास से परेशान होकर छलांग लगायी
कैलाश ने नदी से बाहर आने के बाद पुलिस को बताया कि उसका अपनी पत्नी और ससुराल वालों से पारिवारिक विवाद चल रहा है. सास से उसका झगड़ा हुआ था. इससे परेशान होकर वह क्षिप्रा नदी में आत्महत्या करने की नीयत से कूद पड़ा था. लेकिन वह बच गया. उसने बोला भोला ओर निक्की प्रजापत का धन्यवाद किया कि मैं तो मरना चाहता था लेकिन भगवान के रूप में आकर आपने मुझे बचा लिया.

Tags: Dewas News, Suicide attempt

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर