पिता और भाई एक्सीडेंट में मारे गए, अब बेटी हल में जुतकर पाल रही है परिवार

बेटी कृष्णा बैल की जगह खुद जुतती है और मां उसे हांकती है. 4 एकड़ की इस ज़मीन पर मक्का और मूंगफली उगाती हैं और जैसे-तैसे गुजर बसर कर रही हैं.

Himanshu Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 15, 2019, 1:54 PM IST
पिता और भाई एक्सीडेंट में मारे गए, अब बेटी हल में जुतकर पाल रही है परिवार
बेटी जोत रही है खेत
Himanshu Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 15, 2019, 1:54 PM IST
देवास जिले के एक गांव में एक गरीब परिवार बैल की जगह खुद जुता हुआ है. इस परिवार के मुखिया और बेटे दोनों की मौत हो गयी है. घर में अब मां-बेटी बची हैं. ग़रीबी के कारण वो बैल नहीं ख़रीद सकतीं, इसलिए उसका काम खुद ही कर रही हैं.
देवास के भिलाई गांव में रहने वाले हरदास बारेला नहीं रहे. तीन साल पहले हरदास और उसके बेटे संतोष की एक सड़क हादसे में मौत हो गयी थी. उसकी 4 एकड़ ज़मीन थी. परिवार के दोनों पुरुष सदस्यों की मौत के बाद घर में बचीं हरदास की बूढ़ी मां, पत्नी कारीबाई और 4 बच्चे. परिवार के सामने भुखमरी की नौबत आ गयी. ऐसे हालात में कारीबाई ने पति की ज़िम्मेदारी निभाने का फैसला किया. इस काम में बड़ी बेटी कृष्णा साथ आयी.
समस्या ये आयी कि खेत कैसे जोतें. इतना पैसा नहीं था की बैल ख़रीद पाएं. इसलिए बेटी कृष्णा बैल की जगह खुद जुतती है और मां उसे हांकती है. 4 एकड़ की इस ज़मीन पर मक्का और मूंगफली उगाती हैं और जैसे-तैसे गुजर बसर कर रही हैं.

ये भी पढ़ें-


Loading...

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ लाइव टीवी ...


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 15, 2019, 1:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...