गहने और कपड़े लेकर चंपत हुई लुटेरी दुल्हनें
Dewas News in Hindi

गहने और कपड़े लेकर चंपत हुई लुटेरी दुल्हनें
देवास की दो दुल्हनें शाजापुर के दो दूल्हों को लूटकर चंपत हो गई। अब दूल्हा और बाराती इन दुल्हनों को ढूंढते फिर रहे हैं और पुलिस से दूल्हनों पर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

देवास की दो दुल्हनें शाजापुर के दो दूल्हों को लूटकर चंपत हो गई। अब दूल्हा और बाराती इन दुल्हनों को ढूंढते फिर रहे हैं और पुलिस से दूल्हनों पर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

  • Share this:
देवास की दो दुल्हनें शाजापुर के दो दूल्हों को लूटकर चंपत हो गई। अब दूल्हा और बाराती इन दुल्हनों को ढूंढते फिर रहे हैं और पुलिस से दूल्हनों पर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

दरअसल शाजापुर जिले के गांव चौकी मुरादाबाद और सलसलाई के रहने वाले दो मौसेरे भाई भावसिंह और कमलेश नाम के युवकों का विवाह देवास के रहने वाले बाबु सिंह राजपूत की बेटियों वैशाली और काजल से तय हुआ था। दोनों पक्षों में बारात लाने की तारिख 1 मार्च तय हुई थी। शादी की तारीख तय होते ही वर पक्ष ने तैयारियां शुरू कर दी। शादी के खर्च के लिए वर पक्ष ने न केवल सालों से जोडी रकम खर्च की बल्कि अपनी पुश्तैनी जमीन भी बेंच दी। जमीन को बेचने से हुई आय से वधु पक्ष को सगाई में जेवर और कपड़े चढ़ा दिए।

अब जब शादी के लिए बारात लेकर लड़के वाले लड़की वालों के घर पहुंचे तो घर पर ताला मिला।



नाटकीय अंदाज में हुई ठगी
बापूसिंह ने इस शादी को धूमधाम से करने पााने में खुद को असमर्थ बताया था। इसलिए वर पक्ष ने सहमति देते हुए शादी का पूरा खर्च स्वयं उठाने की जिम्मेदारी लेते हुए पुश्तैनी जमीन बेंच दीं। जमीन बेचने से हुई आय से दोनों भाईयों ने सगाई समारोह में एक एक लाख रुपयें नगद और 500 500 ग्राम चांदी के जेवर दिए। साथ में कपङे और अन्य शादी का सामान भी दूल्हा पक्षों ने दिया था। शादी की तय तारीख पर जब दोनों दुल्हें की बारात देवास पहुंची तो वधु पक्ष के घर पर ताला लटका मिला।

दुल्हन को खोजते खोजते पहुंचे थाने
दूल्हे और बाराती रात भर गहने और कपड़ों को साथ लेकर भागी दूल्हनों को लेकर खोजते रहे। थक हार कर पूरी बारात कोतवाली थाने पहुंची ओर अपने साथ हुई धोकाधङी की शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस अब इन लुटेरी दुल्हनों की तलाश में जुट गयी है।

चार माह पहले हुआ था दूल्हनों से परिचय
दुल्हों के अनुसार वधु पक्ष से उनका परिचय 4 महिनें पहले हुआ था। लेकिन रिश्तेदारों और परिचितों ने भी इस परिवार को लेकर कोई संदेहास्पद जानकारी या फिर सूचना नहीं मिली थी। जिसके चलते इस घटना को बल मिला।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज