Home /News /madhya-pradesh /

tribal society protested against the zila badar of ramdev kakodia digvijay singh joins the protest mpsg

अपने नेता को जिलाबदर करने के विरोध में सड़क पर उतरा आदिवासी समाज, दिग्विजय सिंह भी शामिल

Dewas. युवा आदिवासी नेता रामदेव काकोडिया ने सोशल मीडिया में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. इसलिए जिलाबदर कार्रवाई की गयी.

Dewas. युवा आदिवासी नेता रामदेव काकोडिया ने सोशल मीडिया में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. इसलिए जिलाबदर कार्रवाई की गयी.

देवास जिले के खातेगांव के डाकबंगला मैदान पर आदिवासी संगठनों नेआंदोलन किया. खातेगांव तहसील के हरणगांव क्षेत्र में रहने वाले 22 वर्षीय रामदेव काकोडिया को देवास कलेक्टर ने जिला बदर किया है. रामदेव कई आदिवासी आंदोलन में शामिल रहे हैं और सोशल मीडिया पर भी उनकी सक्रियता है. पिछले दिनों खातेगांव क्षेत्र में एक युवक राहुल बारवाल और रामदेव काकोडिया ने पंडित प्रदीप मिश्रा के संविधान बदलने वाले बयान के संदर्भ में सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. इस टिप्पणी के बाद हिंदूवादी संगठन के लोग थाने पहुंच गए और इनके खिलाफ प्रकरण दर्ज करवाया.

अधिक पढ़ें ...

देवास. मध्य प्रदेश के देवास में अपने नेता के खिलाफ पुलिस कार्रवाई के विरोध में आदिवासी समाज सड़क पर उतर आया. क्योंकि आदिवासी नेता रामदेव काकोडिया को पुलिस ने जिलाबदर कर दिया है. इससे समाज के लोग गुस्से से भर गए. आज जिला मुख्यालय पर समाज के लोगों ने ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन किया. सैकड़ों लोग सड़क पर उतरे और पुलिस के खिलाफ नारे लगाए. इस प्रदर्शन में पूर्व सीएम और राज्य सभा सदस्य दिग्विजय सिंह भी शामिल हुए.

ब्योरे के मुताबिक़ आदिवासी संगठनों ने यह आंदोलन देवास जिले के खातेगांव के डाकबंगला मैदान पर किया. इसी खातेगांव तहसील के हरणगांव क्षेत्र में रहने वाले रामदेव काकोडिया को देवास कलेक्टर ने जिला बदर किया था. गौरतलब है कि रामदेव कई आदिवासी आंदोलन में शामिल रहे हैं और सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हैं.

ये है मसला

कहा गया है कि पिछले दिनों खातेगांव क्षेत्र में एक युवक राहुल बारवाल और रामदेव काकोडिया ने पंडित प्रदीप मिश्रा के संविधान बदलने वाले बयान के संदर्भ में सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. इस टिप्पणी के बाद हिंदूवादी संगठन के लोग थाने पहुंच गए और मामला दर्ज करवा दिया . पुलिस ने फ़ौरन कार्रवाई की और राहुल को जेल भेज दिया. आरोप है कि राहुल बारवाल , रामदेव काकोडिया और रामविलास को थाने पर बुलाया गया और थाना प्रभारी के चेंबर में हिंदूवादी नेताओं के सामने पिटाई की गई. मामले में जयस और भीम आर्मी संगठनों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था. इस प्रकरण के बाद रामदेव काकोडिया को जिला बदर कर दिया गया. आदिवासी संगठनों ने इसे सरकार द्वारा बदले की कार्रवाई माना और इसका विरोध करने के लिए खातेगांव में आंदोलन किया.

ये भी पढ़ें- एमपी में सस्ती होगी शराब ? GoM की बैठक में इन प्रस्तावों पर बनी सहमति

टीआई के निलंबन की मांग

इस आंदोलन में कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, कांतिलाल भूरिया, विक्रांत भूरिया सहित कई आदिवासी नेता शामिल हुए. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आदिवासी समाज के लोगों के साथ नीचे बैठकर भाषण दिया. इस दौरान उन्होंने भाजपा सरकार की कार्रवाई का विरोध किया. दिग्विजय सिंह ने थाने में आदिवासी युवक की कथित पिटाई करने पर टीआई को निलंबित करने और 18 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की. रामदेव काकोडिया पर जिला बदर की कार्रवाई निरस्त करने की भी मांग की गई.

Tags: Madhya pradesh latest news, MP Tribal Leaders

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर