लाइव टीवी

मानी होती वीरेंद्र सहवाग की बात, तो वर्ल्ड कप मैच के दौरान नहीं होती मौत


Updated: March 25, 2016, 3:29 PM IST
मानी होती वीरेंद्र सहवाग की बात, तो वर्ल्ड कप मैच के दौरान नहीं होती मौत
सहवाग ने एक टीवी शो के दौरान कहा, 'टूर्नामेंट शुरू होने से पहले मेरी चार फेवरेट टीम- इंडिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज थी. भले ही न्यूजीलैंड के हाथों भारत को नागपुर में हार का सामना करना पड़ा, लेकिन मुझे 99 फीसदी यकीन है कि भारतीय टीम ही वर्ल्ड कप जीतेगी.'

आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में भारत और बांग्लादेश के बीच रोमांचक मुकाबले के दौरान ओमप्रकाश नाम के क्रिकेट प्रेमी की हार्ट अटैक की वजह से मौत हो गई. मैच के दौरान वीरेंद्र सहवाग ने कमजोर दिल के लोगों को मैच नहीं देखने की सलाह दी थी.

  • Last Updated: March 25, 2016, 3:29 PM IST
  • Share this:
जिन लोगों को दिल की बीमारी हैं, वो कमेंट्री ना सुने तो बेहतर है, क्योंकि उनके डॉक्टर उन्हें यह सलाह दे रहे होंगे कि ये रोमांच जो सर पर चढ़कर हावी हो रहा है, ये उनके दिल के लिए हानिकारक साबित हो सकता है.

हिंदी क्रिकेट कमेंट्री के पर्याय बन गए सुशील दोषी कुछ इसी अंदाज में जब रेडियो कमेंट्री के लिए माइक्रोफोन थामते थे तो हर किसी की धड़कन थम सी जाती थीं. भारत और बांग्लदेश के खिलाफ आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप के दौरान कुछ इसी तरह की चेतावनी टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने दी थी. हालांकि, ओमप्रकाश नाम के एक शख्स को इस चेतावनी को नजरअंदाज करना जानलेवा साबित हुआ.

दरअसल, 55 वर्षीय ओमप्रकाश शुक्ल अपने दोस्तों के साथ गांव में क्रिकेट मैच देख रहे थे. बांग्लादेश को अंतिम छह गेंदों पर जीत के लिए 11 रन की जरूरत थी. वीरेंद्र सहवाग ने मैच के बढ़ते रोमांच को देखते हुए दर्शकों को यह चेतावनी दी थी थी मैच बेहद उतार-चढ़ाव भरा हो चुका है. ऐसे में कमजोर दिल के लोगों को इसे नहीं देखने चाहिए, क्योंकि किसी भी गेंद पर कुछ भी हो सकता है.

हार्दिक पांड्या के अंतिम ओवर की दूसरी और तीसरी गेंद पर मुस्फिकुर रहमान के दो चौकों ने बांग्लादेश की जीत लगभग तय कर दी थी. इसी दौरान ओमप्रकाश के सीने में अचानक दर्द उठा. दोस्त और परिजन कुछ समझ पाते इसके पहले ओमप्रकाश की मौत हो गई.

ओमप्रकाश को परिजन लेकर अस्पताल भी पहुंचे थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. डॉक्टरों के मुताबिक, हार्ट अटैक की वजह से ओमप्रकाश की मौत हुई.

गोरखपुर के बिस्तौली गांव में रहने वाले ओमप्रकाश के तीन बेटे हैं. उनका बड़ा बेटा बेंगलुरू में और दूसरा बेटा सऊदी में जॉब करता है. वहीं, तीसरा बेटा उनके साथ ही रहता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2016, 2:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर