लाइव टीवी

धार लोकसभा सीट: पार्टियां बदलने में भरोसा करता है मतदाता, आसान नहीं बीजेपी की राह

News18Hindi
Updated: May 13, 2019, 7:23 PM IST
धार लोकसभा सीट: पार्टियां बदलने में भरोसा करता है मतदाता, आसान नहीं बीजेपी की राह
बीजेपी उम्मीदवार सावित्री ठाकुर

धार में पहला चुनाव 1962 में हुआ था जिसे भारतीय जनसंघ के उम्मीदवार भारत सिंह ने जीता था.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के मालवा में स्थिति धार नगरी को परमार राजा भोज ने बसाया था. यहां का धार किला और भोजशाला मंदिर इतिहास की विरासत को समेटे हुए हुए. इस शहर का ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व है जिस वजह से ये पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है. लेकिन पर्यटन से परे यहां की आबोहवा में सियासत की भी अहमियत है.

धार लोकसभा सीट पर कभी कांग्रेस तो कभी बीजेपी का कब्जा होता रहा है. पिछले तीन चुनाव के नतीजों को देखें तो यहां की जनता ने किसी एक पार्टी को लगातार दूसरी बार नहीं चुना है. कभी ये कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थी लेकिन बीजेपी ने धीरे-धीरे धार में अपनी धार को पैना किया. इस वक्त धार पर बीजेपी का कब्जा है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की सावित्री ठाकुर ने कांग्रेस के उमंग सिंघर को हराया था. 40 साल की सावित्री ठाकुर 2004 से 2009 के बीच जिला पंचायत की अध्यक्ष रह चुकी हैं.

धार में पहला चुनाव 1962 में हुआ था जिसे भारतीय जनसंघ के उम्मीदवार भारत सिंह ने जीता था. इस सीट से भारत सिंह अगले दो चुनाव जीतने में कामयाब रहे. लेकिन 1977 में भारत सिंह ने भारतीय लोकदल के टिकट से चुनाव जीता था.

कांग्रेस प्रत्याशी दिनेश गिरवाल


जबकि कांग्रेस 1980 में धार सीट पर खाता खोलने में कामयाब हो सकी और साल 1996 तक यहां कांग्रेस के हाथ का दबदबा रहा. इसके बाद साल 1996 में बीजेपी धार में कमल खिलाने में कामयाब हुई. बीजेपी के छत्तर सिंह ने कांग्रेस के सुरजभान सिंह को हराया. लेकिन फिर कांग्रेस यहां समय समय पर वापसी करती रही है. साल 2009 के चुनाव में कांग्रेस के गजेंद्र सिंह ने बीजेपी के मुकाम सिंह को हराया था. धार सीट से कांग्रेस 7 बार चुनाव जीती है तो बीजेपी केवल 3 बार.

कौन हैं प्रत्याशी
कांग्रेस ने दिनेश गिरवाल को धार सीट से उम्मीदवार बनाया है. दिनेश गिरवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया का समर्थक माना जाता है. उन्होंने जिला पंचायत सदस्य के अलावा कोई बड़ा चुनाव नहीं लड़ा है. जबकि 3 बार चुनाव जीत चुके दिग्विजय सिंह के समर्थक माने जाने वाले गजेंद्रसिंह राजूखेड़ी को टिकट नहीं दिया गया.
Loading...

यह भी पढ़ेंः जब भी परिवारवाद का ज़िक्र होगा, छिंदवाड़ा का भी नाम लिया जाएगा

जबकि बीजेपी ने धार से वर्तमान सांसद सावित्री ठाकुर का टिकट काटकर छतर सिंह दरबार को उम्मीदवार बनाया है.छतर सिंह दरबार के जरिए बीजेपी ने भिलाला समाज साधने की कोशिश की है. छतर सिंह दरबार ने धार में बीजेपी का खाता खुलवाया था.

बीजेपी प्रत्याशी सावित्री ठाकुर के लिए प्रचार को धार आए पीएम मोदी


धार लोकसभा में विधानसभा की 8 सीटें आती हैं. सरदारपुर, मनवार, बदनावर, गंधवानी, धर्मपुरी, डॉ. अंबेडकरनगर-महू, कुकशी और धार. 8 विधानसभा सीटों में से 6 पर कांग्रेस और 2 पर बीजेपी का कब्जा है.

2011 की जनगणना के अनुसार धार की आबादी 25,47,730 है. यहां की 78.63 प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्र में रहती है और 21.37 प्रतिशत लोग शहरी क्षेत्र में रहती है.

यह भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव : दिग्विजय के गढ़ राजगढ़ में इस बार किसकी होगी विजय?

चुनाव आयोग के मुताबिक साल 2014 के लोकसभा चुनाव में यहां पर कुल 16,68,441 मतदाता थे. इनमें से 8,58,093 पुरुष मतदाता और 8,10,348 महिला मतदाता थे. 2014 के चुनाव में इस सीट पर 64.54 फीसदी मतदान हुआ था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगर मालवा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 13, 2019, 7:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...