होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /83 साल पुराने एक फैसले ने भोजशाला को बना दिया एमपी की 'अयोध्या'

83 साल पुराने एक फैसले ने भोजशाला को बना दिया एमपी की 'अयोध्या'

भोजशाला में हजारों लोगों के जुटने की संभावना के चलते सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए है.

भोजशाला में हजारों लोगों के जुटने की संभावना के चलते सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए है.

मध्य प्रदेश के धार शहर में बसंत पंचमी के मौके ऐतिहासिक भोजशाला में पूजा-अर्चना के लिए हजारों लोग पहुंच रहे हैं.

    मध्य प्रदेश के धार शहर में बसंत पंचमी के मौके पर ऐतिहासिक भोजशाला में पूजा-अर्चना के लिए हजारों लोग पहुंच रहे हैं. भोजशाला में हिंदू समाज को केवल साल में एक दिन बसंत पंचमी के मौके पर पूरे दिन हवन-पूजन की अनुमति रहती है.

    भोजशाला में हजारों लोगों के जुटने की संभावना के चलते सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए है. राहत की बात ये है कि शुक्रवार नहीं होने की वजह से पुलिस के लिए इस बार 'बसंत' तनाव लेकर नहीं आया.

    दरअसल, एमपी की इस 'अयोध्या' में तनाव की वजह हिंदू और मुस्लिम समाज का भोजशाला पर अपना-अपना दावा जताना है.

    भारतीय पुरात्तव विभाग के प्रावधान के मुताबिक हिंदुओं को हर मंगलवार को पूजा और मुस्लिमों को हर शुक्रवार को नमाज अता करने की अनुमति मिली हुई है. वहीं, बसंत पंचमी पर भोजशाला में सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक पूजा-अर्चना करने का प्रावधान है.

    1935 में मिली नमाज की अनुमति
    भोजशाल में नमाज और पूजा की व्यवस्था आजादी से पहले शुरू हुई थी. धार स्टेट दरबार के दीवान नाडकर ने 1935 में शुक्रवार को जुमे की नमाज अदा करने की अनुमति दी थीं.

    83 साल पुराने इस ऑर्डर में भोजशाला को कमाल मौला की मस्जिद बताते हुए शुक्रवार को नमाज पढ़ने की अनुमति दी थी. इसके बाद पूजा और नमाज होना शुरू हुआ था.

    1989 के बाद से 'सुलग' रहा धार
    धार में भोजशाला विवाद को अयोध्या आंदोलन के बाद हवा मिलने लगी. दोनों समाज के लोग इस पर अपना एकाधिकार दिखाने लगे. इस वजह से पिछले दो दशक से भोजशाला की वजह से धार में कई बार बसंत तनाव लेकर आया.

    बसंत पंचमी और शुक्रवार एक दिन होने की वजह से कई बार शहर फसाद की आग में झुलसा. वर्षों से चले आ रहे विवाद के बीच 2003, 2006 और 2013 को बसंत पंचमी शुक्रवार को होने के कारण विवाद हुआ.

    2013 में भी पूजा और नमाज को लेकर दोनों पक्षों में विवाद हुआ था. इसके चलते पथराव, आगजनी, तोड़फोड़ के चलते हालात बिगड़ गए थे. पुलिस ने लाठीचार्ज और अश्रुगैस के गोले दागकर हालात पर काबू पाया था.

    1456 में हुआ था निर्माण
    धार में महमूद खिलजी ने भोजशाला के भीतर मौलाना कमालुद्दीन के मकबरे और दरगाह का निर्माण कराया था. दरगाह बनने के कई सदियों तक यह जगह गैर-विवादित रही. दोनों पक्षों के लोग अपनी धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पूजा और नमाज की की परंपरा का निर्वाह करते थे.

    सरस्वती सदन से मशहूर हुआ था भोजशाला
    धार को राजा भोज के शासनकाल में पहचान मिली. परमार वंश से ताल्लुक रखने वाले राजा भोज ने 1034 ईस्वी में एक महाविद्यालय के रूप में सरस्वती सदन की स्थापना की थी. राजा भोज की रियासत के दौरान यहां देवी सरस्वती की प्रतिमा स्थापित की गई थी. वाग्देवी की यह प्रतिमा अभी लंदन में है.

    Tags: Dhar news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें