• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • एमपी गजब है: 99 करोड़ का बिजली बिल नहीं दे रही थी कंपनी, अब कटा कनेक्शन, विभाग को 6 साल तक झुलाया

एमपी गजब है: 99 करोड़ का बिजली बिल नहीं दे रही थी कंपनी, अब कटा कनेक्शन, विभाग को 6 साल तक झुलाया

मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित नेशनल स्टील कंपनी 99 करोड़ का बिजला बिल जमा नहीं कर रही थी. विभाग ने काट दिया कनेक्शन.

मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित नेशनल स्टील कंपनी 99 करोड़ का बिजला बिल जमा नहीं कर रही थी. विभाग ने काट दिया कनेक्शन.

MP News: धार की नेशनल स्टील कंपनी पर 99 करोड़ 17 लाख का बिजली बिल बकाया था. बिल न चुकाना पड़े और राहत मिल जाए, इसके लिए कंपनी कोर्ट के चक्कर लगाती रही. 6 साल तक मामला लटकाया. अब विभाग ने कंपनी का कनेक्शन काट दिया है. दो बैंक खाते भी सीज कर दिए गए हैं.

  • Share this:

धार. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बकाया राशि वसूली को लेकर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की है. धार जिले के लेबड़ औद्योगिक क्षेत्र स्थित इस्पात कंपनी नेशनल स्टील लिमिटेड का बिजली कनेक्शन काट दिया गया है. बिजली कंपनी को नेशनल स्टील कंपनी से 99 करोड़ 17 लाख की रकम वसूली करनी थी. कंपनी के दो बैंक खाते भी फ्रीज कर दिए गए हैं.

जानकारी के मुताबिक, मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी और नेशनल स्टील लिमिटेड के बीच 6 सालों से विवाद चल रहा था. कंपनी ने बिजली बिल में राहत पाने के लिए इंदौर हाई कोर्ट में अपील की थी. इसे हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया. इसके बाद बिजली कंपनी के इंजीनियर ध्रुव नारायण शर्मा ने कानूनी कार्रवाई की और बिजली कनेक्शन काट दिया. अब कंपनी में उत्पादन ठप्प पड़ गया है.

6 साल पुराना मामला
मध्य प्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत कंपनी वितरण के ध्रुव नारायण शर्मा ने बताया कि विद्युत चोरी, अनाधिकृत उपयोग आदि को लेकर ग्राम लेबड़ स्थित नेशनल स्टील कंपनी का हमने 6 साल पहले मामला बनाया था. कंपनी को बिजली चोरी और अनियमितता के चलते 49 करोड़ का बिल भी दिया गया था. लेकिन, कंपनी बिल जमा करने के बजाय कोर्ट की शरण में चली गई थी. इतने सालों तक स्टील कंपनी ने निचली अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक केस लड़ा. सुप्रीम कोर्ट ने भी बिजली कंपनी के पक्ष में ही फैसला सुनाया था.

कंपनी को नहीं मिली राहत
शर्मा के मुताबिक, इस बीच कंपनी फिर इंदौर हाईकोर्ट पहुंच गई और किसी एक बिंदु को लेकर याचिका दायर की. कोरोना के कारण बीते समय से सुनवाई टलती रही. 27 जुलाई को हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ ने निर्णय सुनाते हुए कंपनी को राहत देने से इंकार कर दिया, जिसके बाद यह कार्रवाई की गई.

धार की ये खबर भी देखें
धार के नजदीक एक कार हादसे में इंदौर के शूटिंग खिलाड़ी नेशनल राइफल शूटर नमन पालीवाल की मौत हो गयी. जबकि उनकी साथी खिलाड़ी गंभीर रूप से घायल हो गई. इंदौर की तरफ से आ रही उनकी कार धार के फोरलेन के समीप अनियंत्रित होकर पलट गई. मौके पर ही नमन की मौत हो गई, जबकि कार सवार महिला गंभीर रूप से घायल हुई हैं. भोज चिकित्सालय में उनका प्राथमिक उपचार किया गया. उनकी गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें इंदौर रेफर किया गया है. दोनों राजस्थान के सीकर में नेशनल शूटिंग कॉम्पीटिशन में खेलने जा रहे थे. पुलिस मामले की जांच में जुट गई.

शिवराज ने जताया शोक
कार हादसे में मारे गए शूटर की नमन इंदौर के रहने वाले थे. नमन की मौत की सूचना के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोक जताया है. उन्होंने इस बाबत ट्वीट किया ‘इंदौर के नेशनल शूटर श्री नमन पालीवाल की सड़क दुर्घटना में मृत्यु होने का दुःखद समाचार मिला है. मेरी संवेदनाएँ उनके परिजनों के साथ हैं. भगवान दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें और परिवार के सदस्यों को इस वज्रपात को सहने की शक्ति दें. ॐ शांति’.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज