लाइव टीवी

धार मॉब लिंचिग मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार, टीआई सहित छह पुलिसकर्मी निलंबित
Dhar News in Hindi

News18 Madhya Pradesh
Updated: February 6, 2020, 7:58 PM IST
धार मॉब लिंचिग मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार, टीआई सहित छह पुलिसकर्मी निलंबित
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार रात को ट्वीट किया, ‘‘धार के मनावर में आपसी विवाद में घटित हुई घटना बेहद दुःखद है. (फाइल फोटो)

भाजपा (BJP) ने प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री को दोषी ठहराते हुए राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ से इस्तीफे की मांग की है.

  • Share this:
धार. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के धार जिले में बुधवार को भीड़ हिंसा के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के लिए पुलिस के विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया गया है. साथ ही मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में मनावर पुलिस थाना के नगर निरीक्षक (TI) सहित छह पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है.

भाजपा ने प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री को दोषी ठहराते हुए राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ से इस्तीफे की मांग की है. धार जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) आदित्य प्रतापसिंह ने बताया, ‘‘बोरलाई में हुई भीड़ हिंसा की घटना के संबंध में तीन आरोपियों सरपंच रमेश जूनापानी, सत्या तसल्या तथा गलियां भूरा को गिरफ्तार किया गया है. वीडियो फुटेज के आधार पर शेष अज्ञात आरोपियों की पहचान करने के प्रयास किये जा रहे हैं.’’

एसआईटी का गठन किया गया है
उन्होंने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए घटना की जांच के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) देवेन्द्र पाटीदार के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है. एसआईटी जांच के आधार पर आगे कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने बताया कि इस मामले में प्रथम दृष्टया कुछ पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई है, जिसके तहत मनावर थाने के टीआई सहित छह पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है.मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए इन्दौर जोन के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) विवेक शर्मा भी घटनास्थल पहुंचे और पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए.

पत्थरों और लाठियों से हमला कर दिया था
मालूम हो कि जिले के मनावर क्षेत्र में अपनी रकम वसूल करने आये इन्दौर जिले के सात किसानों पर ग्रामीणों ने बुधवार को पत्थरों और लाठियों से हमला कर दिया था. इस हमले में 35 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी, जबकि छह अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये थे. हताहत लोगों को लेकर यह अफवाह फैलायी गयी थी कि वे बच्चा चुराने आये हैं. इस बीच, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इन्दौर में बृहस्पतिवार को संवाददाताओं को बताया, "भीड़ हिंसा में मारे गये किसान गणेश पटेल (35) के परिजनों को दो लाख रुपये का मुआवजा दिया जायेगा. इस घटना में घायल लोगों का इलाज राज्य सरकार करा रही है."

इस घटना पर राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार रात को ट्वीट किया, ‘‘धार के मनावर में आपसी विवाद में घटित हुई घटना बेहद दुःखद है. ऐसी घटनाएं मानवता को शर्मसार करने वाली हैं जिन्हें बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. पूरे मामले की प्रशासन को जांच के निर्देश दिए गए हैं. जांच कर दोषियों पर सख़्त कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं.’’तालिबानी प्रदेश बना दिया है
भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने धार की घटना पर मीडिया से कहा, ‘‘कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने मध्य प्रदेश को तालिबानी प्रदेश बना दिया है. पीट-पीट कर लोगो की हत्याएं की जा रही हैं. पत्थर से कुचल-कुचल कर मारा जा रहा है. धार की दुर्भाग्यपूर्ण घटना में जो लोग मारे गए हैं, वे पुलिस को सूचना देकर गए थे कि हम अपना पैसा लेने जा रहे हैं और हमें वहां खतरा है. लेकिन पुलिस सोती रही और ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना घट गई, जिसकी प्रदेश में मिसाल नहीं मिलती. आखिर कहां जा रहा है मध्य प्रदेश कमलनाथ जी. यह जंगलराज नहीं तो क्या है?’’

ये भी पढ़ें- 

डालमियानगर में फिर लौटेगी रौनक! रेल वैगन कारखाना निर्माण में आएगी तेजी

इस स्कूल में हर दिन निकल रहा जहरीला कोबरा, दहशत से बच्चों ने छोड़ी पढ़ाई

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 7:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर