Assembly Banner 2021

वन विभाग के अमले ने बैगा आदिवासियों पर दर्ज किया झूठा केस!

गिरफ्तार किए गए बैगा आदिवासी.

गिरफ्तार किए गए बैगा आदिवासी.

पीड़ि‍त बैगा आदिवासी किसान बजारी लाल ने बताया कि वन विभाग ने राष्ट्रीय पक्षी मोर के शिकार के प्रयास का मामला दर्ज कर करीब 12 बैगा आदिवासियों को गिरफ्तार किया है. बैगा आदिवासियों के पास से खेत जोतने के 15 हल भी जब्‍त कर लिए हैं.

  • Share this:
एक तरफ मध्‍यप्रदेश सरकार वन भूमि पर निवासरत वनवासियों को वनाधिकार पत्र देकर सम्मानित कर रही है, वहीं प्रदेश सरकार के ही वन विभाग का अमला वनवासियों के साथ ज्‍यादती करने पर उतारू है. ऐसा ही एक मामला सामने आया है प्रदेश के डिंडौरी जिले में. यहां बजाग वन परिक्षेत्र अंतर्गत वनग्राम खमेरा में वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों ने बैगा आदिवासियों के साथ न केवल ज्‍यादती की, बल्कि उनके हल जब्‍त कर उन्‍हें वन्‍य प्राणियों के शिकार के झूठे केस में भी फंसा दिया.

दरअसल वन विभाग का अमला वनग्राम खमेरा में वन भूमि पर अतिक्रमण रोकने गया था. इस दौरान कर्मचारियों ने पहले तो बैगा आदिवासी किसानों के करीब 15 नग हल जब्त कर लिए. जब उन्‍होंने वन विभाग की कार्रवाई का विरोध किया तो वन भूमि पर खेती कर अपना जीवन-यापन करने वाले बैगा आदिवासियों को सबक सिखाने के लिए वन विभाग ने उनके खिलाफ राष्ट्रीय पक्षी मोर के शिकार के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया गया.

पीड़ि‍त बैगा आदिवासी किसान बजारी लाल ने बताया कि वन विभाग ने राष्ट्रीय पक्षी मोर के शिकार के प्रयास का मामला दर्ज कर करीब 12 बैगा आदिवासियों को गिरफ्तार किया है. बैगा आदिवासियों के पास से खेत जोतने के 15 हल भी जब्‍त कर लिए हैं. जब इस संबंध में वन विभाग के अधिकारियों से बात की गई तो वे पूरे मामले की जानकारी देने से बचते नजर आए.



यह भी पढ़ें- डिंडौरी जिले में बैगाओं को नहीं मिल रही आहार अनुदान राशि
यह भी पढ़ें- ढावा वनग्राम में डायरिया से पीड़ित महिला की मौत, दर्जनों बीमार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज