अपना शहर चुनें

States

मुखिया की हार्ट अटैक से अचानक मौत, घर वालों ने मतदान कर पूरी की अंतिम इच्छा

शोकाकुल परिवार ने अपने पिता का अंतिम संस्कार करने के बाद मतदान केन्द्र पहुंच कर मतदान किया
शोकाकुल परिवार ने अपने पिता का अंतिम संस्कार करने के बाद मतदान केन्द्र पहुंच कर मतदान किया

लोकतंत्र के महापर्व पर एक खबर ऐसी भी आई जो 'मेरे एक वोट से क्या होगा' कहकर मतदान नही करने वालों के लिए बड़ी सीख साबित हो सकती है

  • Share this:
मध्य प्रदेश के डिंडौरी जिले में लोकसभा चुनाव के लिए हुए मतदान के दौरान दिनभर कई गांवों से मतदान के बहिष्कार किए जाने की खबरें आती रहीं लेकिन लोकतंत्र के महापर्व पर एक खबर ऐसी भी आई जो 'मेरे एक वोट से क्या होगा' कहकर मतदान नही करने वालों के लिए बड़ी सीख साबित हो सकती है. यहां के एक शोकाकुल परिवार ने अपने पिता का अंतिम संस्कार करने के बाद मतदान केन्द्र पहुंच कर मतदान किया.

दरअसल,  मामला डिंडौरी जिले के गन्नागूढा गांव का है जहां आदिवासी परिवार के मुखिया और पूर्व सरपंच सुखराम मरपाची का मतदान करने के पूर्व घर पर ह्रदयघात होने से आज निधन हो गया था. परिजनों ने दोपहर को अंतिम संस्कार किया और उसके बाद शोकाकुल परिवार ने लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा लेकर मतदान किया.

लोकसभा चुनाव: मध्य प्रदेश की छह सीटों पर 66 प्रतिशत मतदान



परिजनों के मुताबिक स्वर्गीय सुखराम लगातार सात बार गांव के सरपंच रह चुके हैं और हर चुनाव में गांव के मतदान केंद्र में सबसे पहला वोट उनका ही पड़ता था. इसके अलावा सुखराम अपने गांव के साथ-साथ आसपास के गांव में भी मतदान करने की अपील किया करते थे.
यह भी बताया जा रहा है कि जब उनकी तबियत बिगड़ी तो उन्होंने अपने परिवार को मतदान करने की अपील की. इसके बाद शोकाकुल परिवार वालों ने शाम को अंतिम संस्कार के बाद मतदान किया.

यह भी पढ़ें- VIDEO: उमा भारती ने लिपटकर रो पड़ीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज