अपना शहर चुनें

States

मंत्री बोले महुआ के पेड़ लगाओ, विपक्ष को रास नहीं आ रहा फैसला

खेती को लाभ का धंधा बनाने में जुटी मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार के आदिम जाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह अब महुआ की खेती को बढ़ावा देने की पैरवी कर रहे है. इसके लिए आदिवासी मंत्रालय जल्द ही अपना प्रस्ताव सरकार के सामने रखेगी.
खेती को लाभ का धंधा बनाने में जुटी मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार के आदिम जाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह अब महुआ की खेती को बढ़ावा देने की पैरवी कर रहे है. इसके लिए आदिवासी मंत्रालय जल्द ही अपना प्रस्ताव सरकार के सामने रखेगी.

खेती को लाभ का धंधा बनाने में जुटी मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार के आदिम जाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह अब महुआ की खेती को बढ़ावा देने की पैरवी कर रहे है. इसके लिए आदिवासी मंत्रालय जल्द ही अपना प्रस्ताव सरकार के सामने रखेगी.

  • Share this:
खेती को लाभ का धंधा बनाने में जुटी मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार के आदिम जाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह अब महुआ की खेती को बढ़ावा देने की पैरवी कर रहे है. इसके लिए आदिवासी मंत्रालय जल्द ही अपना प्रस्ताव सरकार के सामने रखेगी.

जिला पंचायत अध्यक्ष व जिला पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण समारोह में आए आदिम जाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह ने एक पंचायत में एक हजार महुआ के पेड़ लगाने का आग्रह किया. साथ ही उन्होंने यह एलान भी किया कि जो महुआ के पेड़ को बचाने का काम करेगा उसे आदिवासी विकास विभाग द्वारा पांच हजार रूपये और सम्मान दिया जाएगा.

उनकी इस घोषणा पर गोंडवाना गणंतत्र पार्टी ने सवाल उठाए है. जिला पंचायत उपाध्यक्ष गंगा पट्टा का कहना है कि महुआ की खेती आदिवासियों के लिए लाभ का धंधा नहीं हो सकती. महुआ से शराब बनती है और पूरा आदिवासी समाज उसका उपयोग करता है.



जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने कहा कि यदि महुआ के पेड़ लगाना लाभ का धंधा होता तो उमरिया और शहडोल जैसे जिलों में जहां महुआ के पेड़ ज्यादा है, वहां आदिवासी करोड़पति बन जाते. उपाध्यक्ष का आरोप है कि आबकारी अधिनियम 1915 के तहत आदिवासी जिलों में आदिवासियों को शराब बनाने की और पीने की आजादी है, जो गलत है. इससे आदिवासियों का विकास नहीं हो सकता। जिले में अन्य आयुर्वेदिक औषधियों के पेड़ है ऐसे में मंत्री महुआ की पैरवी क्यों कर रहे है समझ से परे हैं।
आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज