अपना शहर चुनें

States

शिक्षकों के तबादले से स्कूलों में लटके ताले, रिटायर टीचर का भी हुआ ट्रांसफर

सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षक का हुआ तबादला
सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षक का हुआ तबादला

डिंडौरी जिले में रिटायर हो चुके शिक्षक का भी ट्रांसफर कर दिया गया है. तबादले की सूची में ऐसे स्कूलों के शिक्षक भी शामिल किए गए है, जहां सिर्फ एक ही शिक्षक थे. अब ये स्कूल शिक्षकविहीन हो गए हैं.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के डिंडौरी जिले में शिक्षकों के तबादले में विभाग (Department) की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है. आदिम जाति कल्याण विभाग ने रिटायर हो चुके शिक्षक के भी तबादले (Transfer of retired teacher) का आदेश जारी कर दिया है. रिटायर शिक्षक के तबादले के अलावा जिले के कई स्कूलों (Schools) में जहां सिर्फ एक शिक्षक पदस्थ थे, उनका भी तबादला आदिम जाति कल्याण विभाग ने कर दिया है. इसके चलते डिंडौरी जिले के कई स्कूल शिक्षकविहीन हो गए हैं.

सी बी उरैती, विकासखंड शिक्षाधिकारी, डिंडौरी


विकासखंड शिक्षा अधिकारी मामले से अनजान



संता सिंह मरावी 9 जुलाई 2019 को पड़रिया माल माध्यमिक शाला से रिटायर हो चुके हैं. रिटायर होने के बावजूद विभाग ने 8 अगस्त 2019 को जारी शिक्षकों के तबादले की सूची में संता सिंह मरावी का भी नाम शामिल है. उनका तबादला पड़रिया माध्यमिक शाला से अमनी पिपरिया माध्यमिक शाला में तबादले का आदेश जारी कर दिया गया है. तबादले की जानकारी लगने के बाद रिटायर्ड शिक्षक हैरान हैं. विकासखंड शिक्षा अधिकारी मामले से अनजान दिख रही हैं. इस मामले के सामने आने शिक्षकों का तबादला करने वाले आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी कैमरे के सामने कुछ भी कहने से बचते हुए नजर आ रहे हैं.
बीजेपी ने सरकार पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

बीजेपी (BJP) ने शिक्षकों के मनमाने तबादले के मामले में आदिम जाति कल्याण विभाग को आड़े हाथ लेते हुए प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं. गौरतलब यह है कि जिस आदिम जाति कल्याण विभाग ने शिक्षकों के तबादले में मनमानी और गड़बड़ी की है, उस विभाग के कैबिनेट मंत्री ओमकार मरकाम हैं और डिंडौरी मंत्री ओमकार मरकाम का गृह जिला है.

(रिपोर्ट- विजय)

ये भी पढ़ें-  इस अद्भुत पेड़ में लोग अबतक ठोक चुके हैं हजारों जंजीरें

दिग्विजय सिंह ने कहा-अभी पीसीसी चीफ का पद खाली नहीं!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज