अपना शहर चुनें

States

पीएम मोदी की अपील पर रिटायर्ड चपरासी ने दिखाई 'दिलेरी'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सक्षम लोगों से गैस में मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने की अपील का जबलपुर संभाग के डिण्डौरी जिले के राजनेताओ और बड़े-बड़े अधिकारियों पर असर नहीं पड़ रहा हो, लेकिन कृषि विभाग से रिटायर्ड चपरासी को प्रधानमंत्री की अपील रास आई. इस रिटायर्ड चपरासी ने अपनी गैस सब्सिडी देश के विकास के लिये छोड़ दी.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सक्षम लोगों से गैस में मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने की अपील का जबलपुर संभाग के डिण्डौरी जिले के राजनेताओ और बड़े-बड़े अधिकारियों पर असर नहीं पड़ रहा हो, लेकिन कृषि विभाग से रिटायर्ड चपरासी को प्रधानमंत्री की अपील रास आई. इस रिटायर्ड चपरासी ने अपनी गैस सब्सिडी देश के विकास के लिये छोड़ दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सक्षम लोगों से गैस में मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने की अपील का जबलपुर संभाग के डिण्डौरी जिले के राजनेताओ और बड़े-बड़े अधिकारियों पर असर नहीं पड़ रहा हो, लेकिन कृषि विभाग से रिटायर्ड चपरासी को प्रधानमंत्री की अपील रास आई. इस रिटायर्ड चपरासी ने अपनी गैस सब्सिडी देश के विकास के लिये छोड़ दी.

  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सक्षम लोगों से गैस में मिलने वाली सब्सिडी छोड़ने की अपील का जबलपुर संभाग के डिण्डौरी जिले के राजनेताओ और बड़े-बड़े अधिकारियों पर असर नहीं पड़ रहा हो, लेकिन कृषि विभाग से रिटायर्ड चपरासी को प्रधानमंत्री की अपील रास आई. इस रिटायर्ड चपरासी ने अपनी गैस सब्सिडी देश के विकास के लिये छोड़ दी.

सब्सिडी छोड़ने की यह मिसाल डिण्डौरी जिले के साकेत नगर में रहने वाले कृषि विभाग से रिटायर्ड चपरासी गोविन्द विश्वकर्मा ने पेश की हैं. वह डिण्डौरी जिले में गैस सब्सिडी छोड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं.

गोविन्द विश्वकर्मा तीन साल पहले कृषि विभाग से चपरासी पद पर रिटायर हुए थे. उन्हें 8 हजार रूपये पेंशन मिलती है. उनका कहना है कि जब देश के प्रधानमंत्री अपील करते है, तो उनकी बात सबको अमल करना चाहिए. इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस रिटायर्ड कर्मचारी ने गैस सब्सिडी छोड़ने का फैसला लिया. साथ ही उन्होंने अन्य सक्षम लोगों से भी इसी तरह पहल करने की गुजारिश की हैं.



आप भी छोड़ सकते हैं सब्सिडी
अगर आप भी गैस सब्सिडी छोड़ना चाहते हैं, तो www.mylpg.in पर जाकर उसमें giveupsubsdy ऑप्शन चुनना होगा. इसके बाद उस गैस कम्पनी के नाम पर टिक लगाना होगा जिसके आप उपभोक्ता हैं. वहां संबंधित कॉलम में नाम व गैस आईडी देनी होगी. फिर आपका नाम kscroll of honourl में दर्ज हो जाएगा. यानी आप सब्सिडी से बाहर हो चुके हैं.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज