लाइव टीवी

फीस नहीं भर पाए पिता, तो स्कूल ने छात्र को नहीं देने दी परीक्षा

Vijay tiwari | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 7, 2019, 2:33 PM IST
फीस नहीं भर पाए पिता, तो स्कूल ने छात्र को नहीं देने दी परीक्षा
पीड़ित छात्र के साथ उसके पिता

गरीबी रेखा कार्ड योजना के तहत यश की फीस माफ करने की बात कर अब स्कूल प्रबंधन परीक्षा के दिन एक साल की फीस 18 हजार रुपये की मांग कर रहा है और फीस नहीं देने पर यश को परीक्षा के दिन स्कूल से भगा दिया.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के डिंडौरी जिले के शहपुरा नगर में एक निजी स्कूल की मनमानी का मामला सामने आया है. फीस नहीं भरने के कारण स्कूल प्रबंधन ने छात्र को परीक्षा में बैठने से वंचित कर दिया, जिसके कारण छात्र सदमे में हैं, तो वहीं छात्र के गरीब पिता ने तहसीलदार से मदद की गुहार लगाई है. तहसीलदार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का भरोसा दिया है.

पीड़ित छात्र के पिता विमल कुशवाहा के चार बच्चे हैं और ये सभी बच्चे निजी स्कूल में अध्यनरत हैं. स्कूल के तत्कालीन प्राचार्य गरीबी रेखा के तहत यश कुशवाहा की फीस माफ करने की बात कही थी, जिसके कारण उसके पिता ने एक साल से फीस जमा नहीं करवाई थी, लेकिन प्राचार्य के स्थानांतरण के बाद अब स्कूल प्रबंधन मनमानी पर उतारू हो गया है.


MP Board Result 2019

MP Board Result 2019



छात्र के पिता विमल कुशवाहा ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि वे चार में से तीन बच्चों की पूरी फीस समय पपर भरते आ रहे हैं. गरीबी रेखा कार्ड योजना के तहत यश की फीस माफ करने की बात कर अब स्कूल प्रबंधन परीक्षा के दिन एक साल की फीस 18 हजार रुपये की मांग कर रहा है और फीस नहीं देने पर यश को परीक्षा के दिन स्कूल से भगा दिया. यश के पिता चाय की दुकान चलाकर किसी तरह अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं. उन्होंने स्कूल प्रबंधन से यश को परीक्षा में बैठाए जाने की खूब मिन्नते की और स्कूल के प्राचार्य से फीस भरने के लिए समय मांगा है.

छात्र के पिता ने विकासखंड शिक्षाधिकारी से लेकर तहसीलदार तक मदद की गुहार लगाते हुए प्राचार्य के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. गरीबी के कारण कोई शिक्षा से वंचित न रह जाए, जिसके लिए शासन ने निशुल्क शिक्षा एवं शिक्षा के अधिकार जैसे कड़े कानून बनाये हैं, लेकिन निजी स्कूल संचालक सभी नियम कायदों को ताक में रखकर मनमानी करने पर उतारू है और जवाबदार शिक्षा विभाग के अधिकारी सबकुछ जानते हुए मूकदर्शन बने तमाशा देख रहे हैं.

यह भी पढ़ें-  8वीं बोर्ड: पेपर था गणित का और पहुंच गया सामाजिक विज्ञान का...बच्चे करते रहे इंतजार

यह भी पढ़ें-  Board Exam 2019: अच्छे नंबर पाना चाहते हैं, तो रखें इन बातों का ख्याल

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए डिंडोरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 7, 2019, 2:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...