Home /News /madhya-pradesh /

shocking story poor mother who is related to rich family begs door to door for daughter last rites mpns

10 साल छोटी बहन ने दी बड़ी को मुखाग्नि, मां के अंतर्जातीय विवाह की चुकाई कीमत; बड़े खानदान से है रिश्ता

Dindori News: मप्र के डिंडोरी जिले में एक मां बेटी के अंतिम संस्कार के लिए दर-दर भटकती रही.

Dindori News: मप्र के डिंडोरी जिले में एक मां बेटी के अंतिम संस्कार के लिए दर-दर भटकती रही.

Shocking Story: मध्य प्रदेश के डिंडोरी में एक मां ने ये नहीं सोचा होगा कि बड़े खानदान में इंटरकास्ट मैरिज करने के बाद वह दर-दर भटकने को मजबूर हो जाएगी. दस साल पहले पति चल बसा तो, कुछ संतानों की मौत भी हो गई. हाल ही में उसकी बेटी की मौत हुई तो उसे अंतिम संस्कार के लिए भी दर-दर भटकना पड़ा. उसके ससुरालवाले बेटी को देखने अस्पताल तक नहीं गए. न ही उन्होंने अंतिम समय में बहू का साथ दिया. जैसे-तैसे गरीब मां ने पति के दोस्त और कुछ लोगों की मदद से बेटी का अंतिम संस्कार कराया.

अधिक पढ़ें ...

डिंडौरी. मध्य प्रदेश के डिंडौरी जिले से रिश्तों की दर्दनाक कहानी सामने आई. 10 साल की बहन ने अपनी बड़ी बहन को मुखाग्नि दी. इस परिवार की कहानी किसी भी दुखभरी फिल्मी कहानी से कम नहीं. जिस परिवार की बेटी की मौत हुई, वह परिवार शहर के बड़े और प्रतिष्ठित खानदान से रिश्ता रखता है. लेकिन, परिजनों की बेरुखी की वजह से इस परिवार के दर-दर तक भटकने की नौबत आ गई. यहां तक कि इस प्रतिष्ठित खानदान ने अपनी बेटी का अंतिम संस्कार तक नहीं कराया. इंटरकास्ट शादी ने इस परिवार पर दुखों का पहाड़ ला दिया. बड़े खानदान की बहू जीवन जीने के लिए मजदूरी जैसा काम कर कड़ा संघर्ष कर रही है.

दिल को झकझोर देने वाली यह घटना जिला मुख्यालय की है. यहां एक प्रतिष्ठित परिवार ने अंतर्जातीय विवाह और प्रापर्टी विवाद के चलते अपनी बहू व उसके बच्चों से कई साल पहले रिश्ता तोड़ लिया था. लेकिन जब उनका अपना खून, अपनी बेटी पूजा सोनी जिला अस्पताल में जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रही थी तब भी उस प्रतिष्ठित परिवार के किसी भी सदस्य का दिल नहीं पसीजा. मदद करना तो दूर कोई उसे देखने अस्पताल तक नहीं पहुंचा. दरअसल प्रदीप और अलका ने कई साल पहले इंटरकास्ट शादी की थी. करीब दस साल पहले प्रदीप की मौत हो गई और परिवारवालों ने बहू से रिश्ता तोड़ दिया.

ये हुई परिवार की हालत
आर्थिक तंगी से जूझ रहे प्रदीप और अलका को चार संतानें हुई थीं. इनमें से एक-एक कुछ संतानों की मौत हो गई. इसके बाद अलका मेहनत-मजदूरी करके अपनी दो बेटियों पूजा और प्रीति का पेट पालती रही. अलका ने एक साल पहले अपनी बेटी पूजा की शादी की थी. लेकिन, उसके दामाद ने बेटी पूजा को छोड़ दिया. तबसे पूजा अपनी मां अलका और बहन प्रीती के साथ रह रही थी. पिछले कुछ दिनों से पूजा बीमार थी, जिसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा था.

मंगलवार शाम इलाज के दौरान पूजा की मौत हो गई. उस वक्त भी अलका ने अपने ससुराल वालों से मदद मांगी, लेकिन परिवार के लोग उसे देखने तक नहीं पहुंचे. अलका ने बताया कि उनके मरे हुए पति के 11 भाई हैं और उनके पास करोड़ों रुपये की प्रापर्टी है. इसमें उनके पति प्रदीप का भी हिस्सा है, लेकिन अंतर्जातीय विवाह का हवाला देकर उसे प्रापर्टी से बेदखल कर दिया गया है.

Tags: Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर