नाई से कटवाने पर भी इस इंसान के सर पर बार -बार उग आता था सींग !

News18 Madhya Pradesh
Updated: September 13, 2019, 6:08 PM IST
नाई से कटवाने पर भी इस इंसान के सर पर बार -बार उग आता था सींग !
पिछले पांच साल से सर पर सींग लेकर घूम रहे शख्स का डॉ . विशाल (दायें) ने किया ऑपरेशन

75 वर्षीय श्याम लाल यादव पिछले 5 साल से इस सींग कि समस्या से जूझ रहे थे. चिकित्सीय जगत में इसे एक दुर्लभ केस माना जा रहा है. जिसे इंटरनेशनल मेडिकल जर्नल में प्रकाशित करवाए जाने की तैयारी है....

  • Share this:
सागर: सोचिये अगर अचानक से आपके सर पर सींग (horn) निकल आए ? आपको कैसा लगेगा ? ये अनोखा मामला मध्य प्रदेश के सागर जिले में सामने आया है. जहां एक शख्स के सर पर सींग उग आई जिसे डॉक्टर्स ने सर्जरी करके बाहर निकाला. 75 वर्षीय श्याम लाल यादव पिछले 5 साल से इस सींग कि समस्या से जूझ रहे थे. चिकित्सीय जगत (medical world) में इसे एक दुर्लभ केस (rare case) माना जा रहा है. जिसे इंटरनेशनल मेडिकल जर्नल (International Medical Journal) में प्रकाशित करवाए जाने की तैयारी है. इस केस को एमबीबीएस (MBBS)के स्टूडेंट्स को भी पढ़ाए जाने कि योजना है.

अजीब लगता था सिर पर सींग लेकर घूमना
ये मामला हॉलीवुड मूवी हेलबॉय में सर पर सींग वाले कैरेक्टर की याद दिलाता है. हालांकि उस कैरेक्टर के सर पर दो सींग थे और बुजुर्ग श्यामलाल एक सींग के साथ पिछले 5 वर्षों से जूझ रहे थे. उन्होंने बहुत से अस्पतालों और डॉक्टर्स के चक्कर काटे यहां तक कि कई दफा नाई से भी सींग कटवा दी लेकिन वो फिर वापस आ जाती. रहली के पटना बुजुर्ग गांव के श्यामलाल यादव बताते हैं कि वो पिछले 5 साल से सिर पर सींग लेकर घूम रहे थे हालांकि उन्हें इस सींग से रोजमर्रा के कामकाज में कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन अजीब लगता था सर पर सींग लेकर घूमना. श्यामलाल बताते हैं कि करीब 5 साल पहले उन्हें सिर में चोट लग गई थी, उसके कुछ दिनों बाद सींग निकलने लगा. कई अस्पतालों में बहुतेरे डॉक्टरों को दिखाया, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ. यहां तक कि आजिज आकर श्यामलाल ने स्थानीय नाई से कई दफा इस सींग को ब्लेड से कटवा दिया, लेकिन सींग बार-बार निकल आता.

मिल गई मुक्ति

श्यामलाल अपने सींग के इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज के अलावा भोपाल (Bhopal) और नागपुर (Nagpur) के भी कई अस्पतालों में इलाज के लिए गए लेकिन कहीं भी उन्हें संतुष्टि नहीं मिली. इस सब के बाद उन्होंने सागर के एक निजी अस्पताल में डॉ. विशाल गजभिये (Dr. vishal Gajbhiye) को अपनी समस्या बताई. वरिष्ठ सर्जन डॉ. गजभिये ने ऑपरेशन कर उन्हें फाइनली सींग से मुक्ति दिलाई. श्यामलाल के सिर पर बीचो-बीच 4 इंच से बड़े साइज़ का ये सींग बिल्कुल असली और ठोस था. मेडिकल साइंस में यह अभी तक का दुर्लभ मामला है.

सब जगह से थक हार कर श्यामलाल पिछले दिनों सागर के एक निजी अस्पताल भाग्योदय तीर्थ हॉस्पिटल के डॉ. विशाल गजभिये  से मिलकर उन्हें अपनी समस्या बताई जहां पिछले दिनों उनका ऑपरेशन किया गया. श्यामलाल यादव की सर्जरी करने वाले सीनियर सर्जन डॉ. विशाल गजभिये ने news 18 से बातचीत में बताया कि सींग की लंबाई करीब 4 इंच थी, मोटाई भी पर्याप्त थी. मरीज का सीटी स्कैन कर के पहले यह देखा गया कि सींग सिर में कितने अंदर तक था. जब कंफर्म हो गया सींग ऊपरी सतह पर ही है और न्यूरो सर्जन की आवश्यकता नहीं पड़ेगी तो ऑपरेशन किया गया.

दुर्लभ मामला
Loading...

सींग को काटने के बाद खाली जगह को बंद करने के लिए माथे के ऊपरी हिस्से की चमड़ी निकाल कर प्लास्टिक सर्जरी की गई है. डॉ. गजभिये के मुताबिक यह दुर्लभ केस है. मेडिकल साइंस में इसे सेवेसियस हार्न कहा जाता है. सिर में बालों की ग्रोथ के लिए प्राकृतिक रूप से सेवेसियस ग्लैंड होती है. इससे द्रव्य रिलीज होते हैं, जो बालों को चमकदार बनाते हैं. चोट लगने के कारण यह ग्लैंड शायद बंद हो गई और द्रव्य जमता रहा जिसने सींगनुमा आकार ले लिया. डॉ. गजभिये कहते हैं कि ये दुर्लभ मामला है जो कि अध्ययन का विषय है. वो इसे इंटरनेशनल जर्नल (International Medical Journal) में प्रकाशन के लिए भेज रहे हैं. साथ ही इसे मेडिकल साइंस Medical science) के कोर्स में शामिल करने के लिए भी भेज रहे हैं. वो कहते हैं कि ये बहुत ही रेयर केस है. सेवेसियस हार्न की हिस्ट्री उन्हें किताबों के अलावा और कहीं नहीं मिली.

(सागर से राजेश कुमार की रिपोर्ट )

ये भी पढ़ें-  लगातार बारिश से भरभरा के गिरा मकान, 2 बच्चों समेत 4 लोग घायल

ये भी पढ़ें-भोपाल नाव हादसा : मौत की बोट पर सवार कमल राणा से सुनिए हादसे की आपबीती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 5:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...