कर्ज से परेशान किसान ने 10 दिन पहले छोड़ दिया था घर, अब जंगल में पेड़ से लटका मिला उसका कंकाल

सागर में कर्ज से परेशान किसान ने दस दिन पहले घर छोड़ दिया था. अब उसकी लाश पेड़ से लटकती मिली. (सांकेतिक तस्वीर)
सागर में कर्ज से परेशान किसान ने दस दिन पहले घर छोड़ दिया था. अब उसकी लाश पेड़ से लटकती मिली. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्यप्रदेश के सागर (Sagar) में दो साल से खराब फसल होने के चलते कर्ज में डूब गया था किसान, परेशान होकर पहले घर छोड़ा और फिर फंदा लगा कर की आत्महत्या (Suicide).

  • Share this:
सागर. देश में कर्ज के बोझ के तले दबे किसानों का आत्महत्या (Suicide) करने का सिलसिला जारी है. अब ऐसी ही एक खबर मध्यप्रदेश के सागर से है. यहां पर कुमेरिया गांव में एक किसान ने पेड़ से फंदा लगा कर आत्महत्या कर ली. किसान पिछले दस दिनों से लापता था. जानकारी के अनुसार पिछले दो सालों से वह परेशान था और दिनों दिन उस पर कर्ज का बोझ बढ़ता जा रहा था. इसी बात से परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली. अब पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच की जा रही है.

दस दिन पहले हुआ था लापता
मृत किसान के भाई ने बताया कि बड़ा भाई दस दिन पहले अचानक घर से कहीं चला गया था. पहले तो काफी ढूंढा फिर जब वह नहीं मिला तो पुलिस में संपर्क किया. पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज कर जांच शुरू की लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल सका. इस दौरान परिवार ने भी काफी ढूंढने का प्रयास किया लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला.

पेड़ से लटका था कंकाल
जंगल में कुछ लोगों के जाने पर किसान की मौत के बारे में पता चला. उन लोगों ने ही इस संबंध में पुलिस को सूचित किया. पुलिस के अनुसार मौत कई दिन पहले हुई प्रतीती होती है. किसान का शव कंकाल नुमा होकर पेड़ से लटका हुआ था. पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों को सौंप दिया है.





कर्जदार कर रहे थे परेशान
जानकारी के अनुसार किसान की फसल पिछले दो सालों से खराब हो रही थी. इसी के चलते उसे लगातार कर्ज लेना पड़ रहा था. पिछले कुछ दिनों से लगातार कर्जदार भी उससे पैसा मांग रहे थे और इसी के चलते वह परेशान था. लगातार पैसों का तकाजा होने के चलते वह अवसाद में आ गया था और अचानक दस दिन पहले घर से कहीं चला गया. पुलिस अब मामले की जांच में जुटी है. पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का है लेकिन फिर भी हर पहलू से जांच की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज