Home /News /madhya-pradesh /

ex ias officers and industrialists came from delhi for the election of sarpanch in the tiger movement area of bhopal kuld

भोपाल की सबसे पॉश और टाइगर मूवमेंट वाली पंचायत में सरपंच चुनने दिल्ली से आए पूर्व आईएएस अफसर व उद्योगपति

मेंडोरी से भाजपा समर्थित जागृति कृष्णकांत सिंह ने रिकॉर्ड 454 वोटों से सरपंच पद का चुनाव जीतीं.

मेंडोरी से भाजपा समर्थित जागृति कृष्णकांत सिंह ने रिकॉर्ड 454 वोटों से सरपंच पद का चुनाव जीतीं.

केरवा डेम के पास स्थित मेंडोरी से भाजपा समर्थित एमबीए डिग्रीधारी जागृति कृष्णकांत सिंह और मेंडोरा से मीरा सुरेश तोमर सरपंच चुनी गई हैं. यहां पूर्व सीएम, पूर्व सीएस, पूर्व डीजीपी से लेकर तमाम ब्यूरोक्रेट, राजनीतिज्ञों और उद्योगपतियों आदि के बंगलें हैं. पूर्व आईएएस आरकेस्वाई और अरबपति जगदीश अरोड़ा जैसे कई लोगों ने सरपंच पद के लिए डाले वोट

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. हरी-भरी वादियों के बीच बने केरवा डेम का इलाका कभी बाघ या बाघिन की दस्तक की वजह से सुर्खियों में रहता है, तो कभी यहां बनी आलीशान कोठियां और फार्महाउस चर्चा का कारण बनते हैं. इस बार यहां सरपंच का चुनाव लोगों की जुबान पर है.

राजधानी से सटे केरवा डेम वाले इलाके में मेंडोरा व मेंडोरी पंचायतें आदर्श भले नहीं हैं, लेकिन साल दर साल इनका रसूख जरूर बढ़ता जा रहा है. वजह है भोपाल के पॉश इलाके में गिनती होना. यही कारण है कि इस बार पंचायत चुनाव में सरपंच चुनने के लिए यहां के मतदाता दिल्ली से विमान तक से आए और अपने मताधिकार का प्रयोग किया. उनका चुनाव में हिस्सा लेना चर्चा में आ गया. मेंडोरी से जागृति सिंह और मेंडोरा से मीरा सुरेश तोमर ने सरपंच पद पर जीत दर्ज की है.
यह भी पढ़ें: सीएम शिवराज सिंह चौहान के क्षेत्र से पूरी शहर सरकार बगैर चुनाव जीती, जानें पूरा मामला

स्व. अर्जुन सिंह की कोठी की वजह से सबसे पहले आया चर्चा में केरवा डेम
सामान्य वनमंडल क्षेत्र के अंतर्गत आने वाला केरवा डेम का इलाका मुख्य रूप से बाघ भ्रमण क्षेत्र के रूप में पहचाना जाता है. इसकी दूसरी पहचान यहां की आलीशान कोठियां, बंगले और फार्म हाउस हैं. कोठियों में मुख्य रूप से पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुन सिंह और सोम ग्रुप के मालिक जगदीश अरोरा की कोठी है. तो वहीं पूर्व मुख्य सचिव अवनि वैश्य, पूर्व डीजीपी सुरेंद्र सिंह समेत आईएएस आरके स्वाई, सत्येंद्र सिंह समेत एक दर्जन से अधिक पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों के बंगले और फार्म हाउस हैं. इन सभी अधिकारियों के नाम यहां की मतदाता सूची में हैं. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व पूर्व विधायक इंदल सिंह कंसाना का भी यहां बंगला है. लेकिन वे इन पंचायतों के मतदाता नहीं हैं.
यह भी पढ़ें: चुनावी टोटका: ढाई करोड़ का हाईटेक रथ ‘अशुभ’, निकाय चुनाव में सीएम शिवराज नहीं करेंगे इस्तेमाल 

रसूखदारों के लिए इसलिए अहम है यह इलाका
यूं तो चुनाव में मतदान करना हर मतदाता का पहला अधिकार है लेकिन इन पंचायतों में हुए सौ फीसद मतदान की दूसरी वजह पंचायत के अधिकार भी हैं. दरअसल यहां किसी भी निर्माण कार्य या भूमि डायवर्जन के लिए पंचायत की अनुमति जरूरी है. यही कारण है कि यहां का रसूखदार मतदाता अपनी ग्राम सरकार चाहता है. 25 जून को मतदान के दिन मतदान केंद्रों में तमाम अधिकारी तो कतार में नजर आए ही, आइएएस आरके स्वाई तो दिल्ली से विमान से मतदान के लिए पहुचे और उन्होंने मतदान किया. इसी तरह जगदीश अरोरा भी खासकर मतदान के लिए पहुंचे.

Tags: Bhopal latest news, Bhopal news live, Bhopal news update, Bjp madhya pradesh, Madhya Pradesh News Updates, Madhya Pradesh Politics, MP news Bhopal

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर