अपना शहर चुनें

States

इंदौर सेज से दवाओं का निर्यात बढ़कर हुआ 20.28 प्रतिशत, उत्पादन में 60 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज

इंदौर सेज से दवाओं के निर्यात में रिकॉर्ड वृद्धि हुई दर्ज की गई है.
इंदौर सेज से दवाओं के निर्यात में रिकॉर्ड वृद्धि हुई दर्ज की गई है.

लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भी इंदौर (Indore) की फार्मा कंपनियों (Pharma Companies) ने कमान किया है. यहां रिर्कार्ड दवाओं का उत्पादन (Production of Drugs) हुआ. दवाओं का निर्यात बढ़कर 20.28 प्रतिशत पर पहुंच गया. इसके बाद कारोबार 8835 करोड़ पर पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 11:23 PM IST
  • Share this:
इंदौर. कोविड-19 के प्रकोप के बीच इंदौर की फार्मा कंपनियों ने दवाओं को रिकार्ड उत्पादन किया है. दवाओं की अंतरर्राष्ट्रीय मांग में इजाफा होने के कारण मौजूदा वित्तीय वर्ष अप्रैल से दिसंबर के दौरान इंदौर के विशेष आर्थिक क्षेत्र (सेज) से निर्यात में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई. इंदौर सेज से हुए निर्यात में करीब 60 फीसद भागीदारी दवाओं की रही. यह बढ़ेत्तरी 20.28 प्रतिशत की दर्ज की गई. इसके बाद कारोबार करीब 8,835 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. जबकि पिछले साल की समान अवधि में इस बहुउत्पादीय सेज से 7,345.51 करोड़ रुपये का निर्यात किया गया था.

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार अप्रैल से दिसंबर के बीच इंदौर सेज से हुए निर्यात में करीब 60 फीसद भागीदारी दवाओं की रही. यह बड़ी उपलब्धि है. उन्होंने बताया कि कोविड-19 के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के दौरान भी इंदौर सेज की फार्मा इकाइयों में लगातार उत्पादन जारी रहा. इन्हें अत्यावश्यक सेवाओं की श्रेणी में रखा था.

CM शिवराज ने किसके लिए कहा, एक ही लाइन का ऑर्डर है-" जड़ से नष्ट कर दो !"



फिलहाल इंदौर सेज में फार्मा, पैकेजिंग सामग्री, इंजीनियरिंग, वस्त्र निर्माण और खाद्य प्रसंस्करण समेत अलग-अलग क्षेत्रों के 67 संयंत्र चल रहे हैं. इनमें से 20 इकाइयां अकेले फार्मा क्षेत्र की हैं. सेज धार जिले की औद्योगिक नगरी पीथमपुर में स्थित है. 1,100 हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्रफल में फैली इस जगह को आधिकारिक तौर पर इंदौर सेज के नाम से जाना जाता है. यह देश के प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों में से एक है. यहां काफी बड़ी संख्या में फार्मा कंपनियां दवाओं का निर्माण करती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज