लाइव टीवी

MP के इस जिले में बंपर पैदावार के लिए किसान गायों को खिलाते हैं भोज, मंत्री ने भी निभाई अनूठी परंपरा
Sagar News in Hindi

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 27, 2019, 9:19 PM IST
MP के इस जिले में बंपर पैदावार के लिए किसान गायों को खिलाते हैं भोज, मंत्री ने भी निभाई अनूठी परंपरा
सागर जिले की राहतगढ़ तहसील में होता है गौभोज का आयोजन.

बुंदेलखंड (Bundelkhand) अंचल में फसलों की बंपर पैदावार के लिए गायों को खेत में छोड़ दिया जाता है. यह परंपरा करीब चार सौ सालों से चली आ रही है. इस बार मध्‍य प्रदेश के राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने भी गायों से आशीर्वाद लिया.

  • Share this:
भोपाल/सागर. बुंदेलखंड (Bundelkhand) अंचल जितना अनूठा है और उतनी ही अनूठी यहां की परंपराएं हैं. ऐसी ही एक परंपरा करीब चार सौ सालों से चली आ रही है, जिसमें फसलों की बंपर पैदावार के लिए गायों को खेत में छोड़ दिया जाता है. गौभोज की परंपरा में किसानों (Farmers) की मान्यता है कि फसलों की पैदावार अच्छी होती है. यही वजह है कि खड़ी फसलों में रात भर गायों (Cows) को खुला छोड़ दिया जाता है. इसे आस्था कहें या अंधविश्वास, जहां फसलों की बंपर आवक को लेकर खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचाने का किसान खुद जोखिम उठाने को तैयार रहते हैं. जबकि इस बार गौभोज में मध्‍य प्रदेश के राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत (Revenue Minister Govind Singh Rajput) भी शामिल हुए.

गायों को रात भर के लिए खुला छोड़ दिया जाता है खेतों में
सागर जिले के राहतगढ़ तहसील के रजौली गांव में में खेतों में झुंड में गायों को खुला छोड़ दिया जाता है. परंपरा गौभोज की है. परंपरा के पीछे की मान्यता है कि मवेशियों को खेत में खुला छोड़ने से फसलों की पैदावार अच्छी होती है. गौभोज का आयोजन करने वाले भगवान सिंह का कहना है कि क्षेत्र में सालों पहले प्राकृतिक आपदा आई थी, तब बुजुर्गों ने गायों को निमंत्रण कर भोज कराया था और तभी से यह परंपरा जारी है. 421 साल पुरानी परंपरा का आयोजन पौष की अमावस्या के दिन हर साल किया जाता है, जिसमें गायों की पूजा की जाती है. यही नहीं, पूजा अर्चना कर फसलों की अच्छी पैदावारा का आशीर्वाद भी मांगा जाता है. इससे जहां फसलों को फायदा होता है तो वहीं प्राकृतिक आपदाएं भी दूर रहती हैं.

mp, kamalnath, kisan
राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत भी समारोह में हुए शामिल.


कमलनाथ के मंत्री ने लिया आशीर्वाद
रात भर खड़ी फसल में खेतों में गायें घूमती रहती हैं और उन्‍हें झुंड में पूरे गांव के हर एक खेत में छोड़ा जाता है. अगर परंपरा के नाम पर सिर्फ एक दिन को छोड़ दिया जाए तो गलती से भी मवेशी के खड़ी फसलों में घुसने विवाद खड़ा हो जाता है. हालांकि गायों को एक साथ खेत में छोड़ने पर फसलों को नुकसान भी होता है, क्‍योंकि फसलें खराब भी हो जाती हैं, लेकिन परंपरा ऐसी है कि फसलों का नुकसान भी किसान आसानी से सहन कर जाते है. यही नहीं, इस परंपरा के आयोजन में खास लोगों को भी न्यौता भेजा जाता है और इस बार गौभोज में मध्‍य प्रदेश के राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने भी शामिल होकर गायों की पूजा कर आशीर्वाद मांगा है.

ये भी पढ़ें-नए साल में प्रदेश को ये ख़ास तोहफा देने जा रही है कमलनाथ सरकार

 

व्यापमं घोटाला: STF ने 3 MBBS डॉक्टर्स पर दर्ज की FIR, ये है मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सागर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 27, 2019, 9:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर