टीवी पर सुषमा स्वराज के बारे में चल रही खबरों को उदास होकर देख रही है गीता

चार साल पहले पाकिस्तान से भारत लाई गई गीता को अपनी बेटी मानती थीं उस समय की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj), इंदौर के एक एनजीओ की देखरेख में है गीता, सुषमा चाहती थी बेटी गीता के हाथ पीले कराना

Dinesh Gupta | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 7, 2019, 1:04 PM IST
टीवी पर सुषमा स्वराज के बारे में चल रही खबरों को उदास होकर देख रही है गीता
पाकिस्तान से लायी गयी गीता को गले लगा कर स्वागत किया था उस समय की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ( फाइल फोटो)
Dinesh Gupta
Dinesh Gupta | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 7, 2019, 1:04 PM IST
पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के निधन की खबर से गीता स्तब्ध है. गीता दिल्ली में सुषमा स्वराज के परिवार के साथ मौजूद जरूर नहीं है. लेकिन,वह टीवी चैनलों के सामने बैठकर सभी कुछ देख रही है. उसके हाथ में सुषमा स्वराज की तस्वीर है. गीता बोल नहीं सकती,लेकिन उसके चेहरे की उदासी अंदर की पीड़ा का स्वत: उजागर करने वाली है. सुषमा स्वराज, गीता के लिए मां की तरह ही थीं. वे गीता को हिन्दुस्तान की बेटी कहा करतीं थीं. गीता के माता-पिता कौन है, यह अब तक पता नहीं लग सका है. कई लोगों ने गीता को अपनी खोई हुई बेटी बताया था,लेकिन गीता के इंकार के कारण दावेदारों को निराश होना पड़ा. सुषमा स्वराज की बड़ी इच्छा थी कि कोई योग्य युवक गीता का हाथ थाम ले,उसकी शादी हो जाए. यह संभव हो नहीं सका.

सुषमा स्वराज के निधन की खबर देख बेहद परेशान हो उठी है गीता. उसे ढांढस बंधाती एनजीओ की प्रमुख


सुषमा की व्यक्तिगत रुचि से आ भारत लाई जा सकी थी गीता
सुषमा स्वराज गीता को चार साल पहले पाकिस्तान से भारत लाईं थीं. सलमान खान की फिल्म बजरंगी भाईजान उन दिनों रिलीज हुई थी. कहा गया कि फिल्म गीता की कहानी पर आधारित है. सुषमा स्वराज विदेश मंत्री थीं. उनके निर्देश पर पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त टीसीए राघवन ने ईधी फाउंडेशन जाकर गीता से मुलाकात की. गीता ने भारतीय होने की पुष्टि की. इसके बाद सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर उसे भारत लाया गया था.

बीमारी के बाद भी करती थी गीता की चिंता
बाद में उसकी जिम्मेदारी इंदौर के मूक-बधिर संगठन को सौंप दी गई. संगठन की प्रमुख मोनिका पंजाबी बताती हैं कि गीता की रूचि अभी शादी में नहीं है. वह पढ़ाई पर ध्यान दे रही है. गीता को इंदौर लाने के पीछे सुषमा स्वराज की सोच थी कि यहां वह ज्यादा सुरक्षित रहेगी. शिवराज सिंह चौहान जब तक राज्य के मुख्यमंत्री रहे वे भी गीता के खैर-खबर लेते रहते थे. अपनी बीमारी के चलते सुषमा स्वराज ने गीता की जिम्मेदारी सामाजिक न्याय मंत्री थावर चंद गहलोत को सौंप दी थी. गहलोत मध्यप्रदेश के ही है.

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद भी मिली थी गीता से
Loading...

गीता के माता पिता होने का दावा करने वाले आठ दम्पतियों के डीएनए सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे. लेकिन जांच में पाया गया कि उनका डीएनए गीता के डीएनए से मेल नहीं खाया. गीता एक बार संस्थान से लगभग आधे घंटे के लिए गायब हो गई थी. राज्य की पुलिस ने उसे तलाश करने के लिए जगह-जगह नाकेबंदी भी कर दी थी. मोनिका पंजाबी बतातीं हैं कि वह मंदिर दर्शन के लिए गई थी. गीता की उम्र पच्चीस साल से अधिक की बताई जाती है. मोनिका पंजाबी बताती हैं कि सुषमा स्वराज जब भी इंदौर आतीं थीं,गीता से जरूर मिलतीं थीं. किडनी ट्रांस्प्लांट के बाद भी मिलीं थीं. राज्य से भाजपा की सरकार जाने के बाद कांग्रेस सरकार गीता की मदद कर रही है,इस सवाल पर मोनिका पंजाबी कहतीं हैं कि यह सरकार से पूछिए.

ये भी पढ़ें : BJP का कार्यकर्ता हो या नेता, सब सुषमा स्वराज को कहते थे दीदी

सुषमा स्वराज को देखकर PM मोदी हुए भावुक, छलक पड़े आंसू
First published: August 7, 2019, 1:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...