लाइव टीवी

गुना जिले में ओडीएफ की खुलने लगी है पोल

Vikas Dixit | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 8, 2017, 7:13 PM IST
गुना जिले में ओडीएफ की खुलने लगी है पोल
गुना जिले में शौचालय बनाने के नाम पर हुआ मजाक फोटो- ईटीवी

ओडीएफ दर्शाने में जुटे सरकारी दावे ज़मीनी हकीकत से परे साबित हो रहे हैं. गुना जिला भी इन दावों से अछूता नहीं है. ओडीएफ के मामले में अब जिले की स्थिति बिगड़ने लगी है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार ही केंद्र सरकार की योजना पर पानी फेरती नज़र आ रही है. ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में महज कागज़ी खानापूर्ति करते हुए विभिन्न क्षेत्रों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) दर्शाने में जुटे सरकारी दावे ज़मीनी हकीकत से परे साबित हो रहे हैं. गुना जिला भी इन दावों से अछूता नहीं है. ओडीएफ के मामले में अब जिले की स्थिति बिगड़ने लगी है.

निचले स्तर से लेकर आला अधिकारियों तक खुले में शौच मुक्त के नाम लाखों रुपए की बंदरबांट का खेल जारी है. ईटीवी/न्यूज 18 के सर्वे के दौरान जो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए वे बेहद हैरान करने वाले निकले. ज्यादातर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी कई लोग खुले में शौच जाने को मजबूर हैं.

अब इसे मजबूरी कहें या आदत लेकिन इस बात को कतई नहीं झुठलाया जा सकता कि सरकारी दावे पूरी तरह से खोखले साबित हो चुके हैं.

टीम ने जब सिंघाडी, हरिपुर, गढ़ा , बरोदिया, बमोरी बुजुर्ग समेत दर्जन भर गांवों का सर्वे किया तो पता चला कि गांवों में कई जगह शौचालय बने हैं तो कई अधबने ही रह गए हैं.

शौचालयों का निरीक्षण करने पर पता चला कि 12 हज़ार की लागत से निर्मित होने वाले शौचालय में न ही पानी की व्यवस्था थी और न ही उसमे इतनी जगह थी कि एक आम आदमी उसमें शौच के लिए जा सके.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2017, 7:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर