• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • OMG: सैलून में काम करने वाले युवक के घर आया 2.5 लाख का बिजली बिल, उड़ गए होश

OMG: सैलून में काम करने वाले युवक के घर आया 2.5 लाख का बिजली बिल, उड़ गए होश

एमपी के गुना जिले में हेयर कट करने वाले युवक के घर का बिल ढाई लाख रुपये आया है.

एमपी के गुना जिले में हेयर कट करने वाले युवक के घर का बिल ढाई लाख रुपये आया है.

Madhya Pradesh: गुना जिले में एक लड़के के घर का बिजली बिल ढाई लाख रुपये आया है. युवक लगातार बिजली कंपनी के अधिकारियों के चक्कर काट रहा है. अधिकारियों से मुलात ही नहीं हो पा रही. जब मीडिया ने अधिकारियों से पूछा तो उन्होंने विषय को कहीं और मोड़ दिया.

  • Share this:

    विजय जोगी. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गुना (Guna) से अजीबो-गरीब खबर है. बिजली कंपनी के कारनामे से एक गरीब का 2.50 लाख रुपए बिल आया है. युवक बिल को लेकर लगातार बिजली कंपनी के चक्कर काट रहा है, लेकिन, अधिकारी सुन नहीं रहे. युवक ने फिलहाल बिल जमा नहीं किया है. ये हाल तब है जब गुना जिले के प्रभारी मंत्री प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर हैं.

    जानकारी के मुताबिक, गुना जिले के बीनागंज शहर में सोनू सेन बार्बर के यहां कटिंग का काम करते हैं. उनके घर जब सितंबर का बिल आया तो परिवार के होश उड़ गए. उसमें बिल की राशि ढाई लाख रुपये लिखी है. इसके बाद परिवार परेशान हो गया. सोनू ने बिल में गड़बड़ी को लेकर आवेदन लिखा और बिजली कंपनी में दिया. वह अधिकारियों से मिलने के लिए लगातार चक्कर काट रहा है, लेकिन वे मिल नहीं रहे.

    बिल पर नहीं हुआ यकीन

    सोनू सेन ने बताया कि बिल देखने के बाद उन्हें यकीन नहीं हुआ. उन्होंने अधिकारियों के आगे गुहार लगाई, लेकिन लेकिन सुनवाई नहीं हुई. सोनू ने बताया कि उसके बाद वे बिजल विभाग नहीं गए और अपने काम में जुट गए. उनका कहना है कि पहले रोजी-रोटी की व्यवस्था कर लें, फिर इस मामले को देखेंगे. गौरतलब है कि जिले में सोनू जैसे कई लोग हैं, जो अनाप-शनाप बिजली बिल आने से परेशान हैं.

    टालमटोल कर रहे अधिकारी

    इस मामले पर जब विद्युत वितरण कंपनी के महाप्रबंधक एसपी शर्मा से बात की गई तो उन्होंने मामले को दूसरो ओर मोड़ दिया. वे सोनू के मामले पर न बोलकर ये बताने लगे कि किस विभाग का कितना बिजली बिल बकाया है. बता दें, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर लगातार बिजली विभाग की कार्यप्रणाली को दुरुस्त करने की बात कहते हैं. लेकिन, अधिकारियों पर कोई असर होता दिखाई नहीं दे रहा.

    निजी कंपनियों से बिजली खरीद रही सरकार

    उल्लेखनीय है प्रदेश के 3 थर्मल पावर प्लांट कोयले की कमी के कारण बिजली उत्पादन बंद हो गया है. सरकार फिलहाल निजी क्षेत्र से बिजली खरीदकर सप्लाई कर रही है. सारणी पावर प्लांट की 200 मेगा वाट इकाई, 210 मेगा वाट इकाई, सिंगाजी पावर प्लांट के 600 मेगा वाट की इकाई और बिरसिंहपुर पावर प्लांट की एक इकाई में बिजली उत्पादन बंद हो गया है. प्रदेश के थर्मल पावर प्लांट में एक से 2 दिन का कोयला बचा है. दरअसल, कोल इंडिया कंपनी और प्रायवेट जनरेटर से कोयला नहीं मिल पा रहा. क्योंकि, दोनों की सरकार पर करोड़ों की देनदारी हो गई है. सरकार को प्राइवेट जनरेटर को 1200 सौ करोड़ और कॉल इंडिया को 1000 करोड़ से ज्यादा का भुगतान करना है. भुगतान नहीं होने के कारण कोल इंडिया कंपनी ने कोयले की आपूर्ति में कटौती कर दी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज