दिग्विजय के गढ़ में शिवराज की सभा के बाद फैला तनाव, अब धारा 144 लागू

मध्य प्रदेश के गुना जिले में दिग्विजय सिंह के गृह क्षेत्र राघौगढ़ में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में टकराव के बाद तनाव फैलने की वजह से ऐहतियातन कर्फ्यू लगाना पड़ा. राघोगढ़ में अगले सप्ताह नगर पालिका चुनाव होने है.

Vikas Dixit | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 13, 2018, 11:04 AM IST
दिग्विजय के गढ़ में शिवराज की सभा के बाद फैला तनाव, अब धारा 144 लागू
राघौगढ़ तनाव में घायल स्थनीय लोग
Vikas Dixit | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 13, 2018, 11:04 AM IST
मध्य प्रदेश के गुना जिले में दिग्विजय सिंह के गृह क्षेत्र राघौगढ़में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में टकराव के बाद तनाव के चलते यहां धारा 144 लागू कर दी गई है. इससे पहले ऐहतियातन कर्फ्यू लगाना पड़ा था. राघौगढ़ में अगले सप्ताह नगर पालिका चुनाव होने हैं.

दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार शाम को यहां प्रचार के लिए पहुंचे थे. मुख्यमंत्री के रोड शो और आमसभा के बाद भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता आमने-सामने हो गए. दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ा कि पुलिस को हालात पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज करने के साथ आंसू गैस के गोल दागने पड़े. इसके बावजूद भी उपद्रव नहीं थमा तो पुलिस ने कर्फ्यू लगा दिया.

बताया जा रहा है कि विवाद की शुरुआत असामाजिक तत्वों के देर रात को बंद पड़ी दुकानों के बाहर लाठियों से तोड़फोड़ करने से शुरू हुआ. इसके बाद तनाव फैलना शुरू हो गया और भाजपा व कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए. इस दौरान जमकर पथराव और तोड़फोड़ हुई. दोनों पक्षों में हुए टकराव में चार लोग घायल हो गए.

राघौगढ़ में तनाव को देखते हुए जिला मुख्यालय के अलावा आसपास के इलाकों से भी अतिरिक्त पुलिस को तैनात किया गया है. पूरे राघोगढ़ में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल लगाए गए है.

विवाद के दौरान कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय सिंह के बेटे और स्थानीय विधायक जयवर्धन सिंह सामने आए और उन्होंने थाने का घेराव कर दिया. इस दौरान भाजपा की तरफ से नजदीक की विधानसभा सीट चांचौड़ा से विधायक ममता मीणा ने भी मोर्चा संभाल लिया.

देर रात विवाद बढ़ने के बाद जयवर्धन सिंह के समर्थन में उनके चाचा और सीनियर कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह भी राघौगढ़ पहुंच गए थे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर