Home /News /madhya-pradesh /

3 हजार रुपये में दिया प्ले बॉय बनाने का ऑफर, भांडा फूटने पर बताया- बैंक को देते करोड़ों का धोखा

3 हजार रुपये में दिया प्ले बॉय बनाने का ऑफर, भांडा फूटने पर बताया- बैंक को देते करोड़ों का धोखा

एमपी के ग्वालियर जिले में पुलिस ने ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

एमपी के ग्वालियर जिले में पुलिस ने ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

Gwalior Crime News: एमपी के ग्वालियर में साइबर पुलिस उस वक्त हैरान रह गई, जब उसने ऑनलाइन फ्रॉड करने वाली कंपनी के ऑफिस पर छापा मारा. यहां साइबर पुलिस को तीन आरोपी मिले, जो लड़कों को प्ले बॉय की नौकरी देने के नाम पर धोखा दे रहे थे. आरोपी बेरोजगारों का तीन हजार रुपये में रजिस्ट्रेशन कर रहे थे. इस तरह उन्होंने दो बैंक खातों में करीब 18 लाख रुपये जमा कर लिए. पुलिस मुखबिर की टिप पर वहां पहुंची और छापा मारा. पुलिस को आरोपियों के पास से 30 सिम कार्ड, 56 एटीएम, 50 आधार कार्ड, 20 पेन कार्ड बरामद हुए.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. साइबर पुलिस ने प्ले बॉय की नौकरी के नाम पर ठगी करने वाली गैंग का भंडाफोड़ किया है. गिरफ्त में आए आरोपी बेरोजगारों से ऑनलाइन ठगी करते थे. इस अंतरराज्यीय गैंग का मास्टरमाइंड  पंकज राजपूत और सौरभ नरवरिया मुरैना के रहने वाले हैं, जबकि तीसरा आरोपी अभिनव कुमार उर्फ गुलशन यूपी के फिरोजाबाद का रहने वाला है. पुलिस को आरोपियों के पास से 30 सिम कार्ड, 56 एटीएम, 50 आधार कार्ड, 20 पेन कार्ड बरामद हुए हैं. इस गैंग ने प्ले बॉय की नौकरी का झांसा देकर देश के हजारों बेरोजगारों को ठगा है.

जानकारी के मुताबिक, आरोपियों के ग्वालियर के 2 बैंक खाते हैं. इन खातों में 18 लाख रुपए कैश जमा होने का खुलासा हुआ है. आरोपी बैंक में बड़ा फर्जीवाड़ा करने की तैयारी में थे. उन्होंने 4 महीने पहले बैंक में दीपक ट्रेडर्स कंपनी के नाम से फर्जी कर्मचारियों के खाते खुलवाए थे. इन्हीं खातों के आधार पर आरोपी 2 महीने बाद बैंक से बड़ा पर्सनल लोन लेकर फरार होने की प्लांनिग कर रहे थे. पकड़े गए आरोपी किसान परिवारों से ताल्लुक रखते हैं. सभी 12 तक पढ़े हैं. पुलिस इनको रिमांड पर लेकर दूसरी ठगी की वारदातों और इनके कनेक्शन के बारे में पूछताछ करेगी.

सब इंस्पेक्टर ने बेरोजगार बनकर बोला धावा

SP अमित सांघी को मुखबिर से खबर मिली थी कि ग्वालियर के सैनिक कॉलोनी स्थित बंसी मार्केट के फ्लैट नंबर 1-A में ऑनलाइन फ्रॉड चल रहा है. खबर मिलने के बाद एसपी ने एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच राजेश दंडोतिया और साइबर क्राइम टीम को तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए. साइबर टीम सैनिक कॉलोनी पहुंची. यहां सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र शर्मा को बेरोजगार बनाकर जॉब के लिए भेजा गया. धर्मेंद्र ने बाहर आकर फ़्रॉड करने वालों की जानकारी दी. फ्लैट के अंदर तीन लोग मौजूद थे. जब धर्मेंद्र ने वहां  पंकज राजपूत नाम के शख्स से बात की और बताया कि उसे नौकरी चाहिए, लेकिन उसके पास पैन कार्ड, आधार कार्ड सहित कोई दस्तावेज नहीं है. तब पंकज ने पेन, आधार सभी फर्जी बनाकर देने का भरोसा दिलाया. इसके लिए एक्स्ट्रा चार्ज लेने की बात कही.

3000 रुपये में हुआ रजिस्ट्रेशन

आरोपी मास्टरमाइंड पंकज ने धर्मेंद्र को बताया कि उसे 3000 रुपये में रजिस्ट्रेशन कराने के बाद ऑनलाइन ऑफर के जरिए अच्छी पगार वाली प्ले बॉय की नौकरी मिलेगी. इस जानकारी के आधार पर बाहर मौजूद टीम ने तीनों आरोपियों को दबोच लिया. मुरैना का रहने वाला पंकज राजपूत इस जालसाजी गिरोह का मास्टरमाइंड निकला. उसके साथ मुरैना का ही रहने वाला है सौरभ नरवरिया और उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद का अविनाश कुमार उर्फ गुलशन जालसाजी के नेटवर्क को संचालित कर रहे थे.

प्लानिंग से चल रहा था जालसाजी का कारोबार

साइबर टीम ने आरोपियों के पास से 30 सिम कार्ड, 56 एटीएम कार्ड, 50 आधार कार्ड, 20 पेन कार्ड के अलावा की-पैड, बड़ी मात्रा में मोबाइल, बैंक अकाउंट की पासबुक और लैपटॉप बरामद किया. मास्टर माइंड पंकज ने साइबर टीम को बताया कि वह प्ले बॉय के नौकरी देने के नाम पर बेरोजगारों को ठगते थे. आरोपी पंकज बेरोजगारों के फर्जी आधार कार्ड पैन कार्ड आदि बनाता था. वहीं, दूसरा आरोपी सौरभ नरवरिया इन दस्तावेजों के सहारे फर्जी तरीके से मोबाइल सिम खरीदता था. तीसरा आरोपी अभिनव कुमार उर्फ गुलशन बेरोजगारों से वॉट्सएप के जरिये महिला अधिकारी बनकर बात करता था. महिला बना गुलशन बेरोजगारों को प्ले बॉय बनने की नौकरी ऑफर करता था. इस नौकरी के लिए रजिस्ट्रेशन फीस के तौर पर बैंक एकाउंट में 3 हजार रुपये ट्रांसफर करवाता था. ये दोनों बैंक एकाउंट ग्वालियर की ICICI बैंक में हैं. इनमें एक एकाउंट में 9 लाख और दूसरे में 7 लाख रुपए जमा है. दोनों बैंकों में कुल 18 लाख रुपए की नकदी जमा होने का खुलासा हुआ है.

बैंक के साथ बड़ा फ्रॉड करने की तैयारी में थी गैंग

देशभर में कई बेरोजगारों को प्ले बॉय की नौकरी का ऑफर देकर ठगने वाली यह शातिर गैंग 2 महीने बाद एक बड़ा बैंक फ्रॉड करने वाली थी. इसके लिए बकायदा जालसाजों ने प्लानिंग भी तैयार कर ली थी.  मास्टरमाइंड पंकज राजपूत ने बताया उन्होंने ग्वालियर की आईसीआईसीआई बैंक में दीपक ट्रेडर्स नाम से एक फर्जी कंपनी रजिस्टर्ड कर अकाउंट खुलवाए थे.  बैंक में दीपक ट्रेडर्स कंपनी के 27 कर्मचारियों के फर्जी खाते खुलवाए थे. इन खातों के लिए आधार और पैन कार्ड सभी दस्तावेज फर्जी इस्तेमाल किए गए थे. लगभग 4 महीने पहले खोले गए इन खातों में कर्मचारियों के नाम से 10 से 15 हजार रुपए हर अकाउंट में प्रति महीने सैलरी के रूप में ट्रांसफर किए जा रहे थे. आरोपियों ने बताया 2 महीने बाद कंपनी एकाउंट को 6 महीने पूरे होने पर इस कंपनी के नाम पर बैंक से एक भारी-भरकम पर्सनल लोन लेने की तैयारी थी. आरोपी करोड़ों का पर्सनल लोन लेते और ग्वालियर से अपना दफ्तर और कारोबार समेट कर फरार हो जाते.  बैंक में दीपक ट्रेडर्स के सभी खाते और कर्मचारी फर्जी थे लिहाजा इनके गिरफ्त में आने की संभावनाएं भी नहीं रहतीं. लेकिन साइबर क्राइम टीम के हत्थे चढ़ने पर जालसाजों का बैंक के साथ बड़ा फ्रॉड करने का मंसूबा ध्वस्त हो गया.

Tags: Gwalior news, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर