लाइव टीवी

COVID-19: झांसी DRM और प्रशासन की मदद से अपने घर पहुंचे ग्वालियर-चंबल संभाग के 500 यात्री, ये है पूरी कहानी
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 26, 2020, 7:23 PM IST
COVID-19: झांसी DRM और प्रशासन की मदद से अपने घर पहुंचे ग्वालियर-चंबल संभाग के 500 यात्री, ये है पूरी कहानी
झांसी डीआरएम की मदद से ग्वालियर पहुंचे यात्री

लॉकडाउन के दौरान मालगाड़ी से निकले 500 यात्री ग्वालियर की जगह झांसी (Jhansi) पहुंच गए थे. बाद में प्रशासन ने रेलवे की मदद से इन यात्रियों को वापस ग्वालियर पहुंचाया

  • Share this:
ग्वालियर. लॉकडाउन (Lockdown) में देश के अलग-अलग राज्यों में काम करने वाले ग्वालियर-चंबल अंचल (Gwalior Chambal Region) के लोग मथुरा और झांसी स्टेशन पर फंस गए थे. मथुरा में फंसे करीब 500 मुसाफिर बीती रात एक मालगाड़ी में सवार हो गए थे. ये मालगाड़ी ग्वालियर नहीं ठहरी और  झांसी रवाना हो गई. मुसाफिरों के परिवार वालों ने अफसरों से गुहार लगाई. जानकारी मिलने पर चंबल की कमिश्नर रेणु तिवारी ने झांसी के डीआरएम (DRM Jhansi) से बात की. यात्रियों को झांसी स्टेशन पर उतारा गया फिर एक विशेष ट्रेन से इन यात्रिय़ों को ग्वालियर लाया गया.

मथुरा से मालगाड़ी में चढ़ गए मुसाफिर
भिंड-मुरैना के हजारों लोग देश के अलग-अलग राज्यों में नौकरियां करते हैं. लॉकडाउन के दौरान ज्यादातर लोग अपने घर लौट आए थे. मुंबई, गुजरात, राजस्थान से आ रहे ग्वालियर चंबल के करीब 500 यात्री मथुरा स्टेशन पर फंसे थे. लॉकडाउन के दौरान मथुरा स्टेशन पर फंसे भिंड-मुरैना के करीब 500 से ज्यादा मुसाफिर एक मालगाड़ी में सवार हो गए. बुधवार देर रात मालगाड़ी जब मथुरा स्टेशन के ऑउटर पर रुकी, उसी दौरान ये यात्री अंधेरे में चोरी-छिपे पीछे के वैगन में चढ़ गए.

बिना रुके झांसी निकल गई मालगाड़ी



इन मुसाफिरों को उम्मीद थी कि मालगाड़ी मुरैना या ग्वालियर स्टेशन पर रुकेगी तो वो उतर जाएंगे. लेकिन मालगाड़ी सुबह के वक्त मुरैना और ग्वालियर स्टेशन पर रुकने की बजाए सीधी झांसी के लिए निकल गई. डबरा में भी जब मालगाड़ी नहीं रुकी तो इसमें छिपकर बैठे मुसाफिरों ने अपने परिजनों को इसकी सूचना दी. परिजनों ने भिंड-मुरैना में पुलिस को जानकारी दी.

चंबल कमिश्नर के कहने पर डीआरएम ने भेजी स्पेशल ट्रेन
मुरैना से आए संभागीय जनसंपर्क अधिकारी डीडी शाक्यवार ने बताया कि चंबल की कमिश्नर रेणु तिवारी ने खुद झांसी डीआरएम से फोन पर बात की और मालगाड़ी में बैठे मुसाफिरों को उतारकर ग्वालियर तक भिजवाने में मदद मांगी. डीआऱएम के आदेश पर झांसी में मालगाड़ी को रोका गया और सभी मुसाफिरों को स्टेशन पर उतारा गया. झांसी रेलवे स्टेशन पर मौजूद स्वास्थ विभाग ने सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की. इसके बाद झांसी से एक स्पेशल ट्रेन में सभी मुसाफिरों को बैठाया गया. इस दौरान दक्षिण भारत से आए ग्वालियर अंचल के करीब 100 और यात्री इसी ट्रेन में सवार हो गए.

ग्वालियर से स्पेशल बस में गंतव्य के लिए रवाना हुए यात्री
दोपहर में स्पेशल ट्रेन ग्वालियर स्टेशन पर पहुंची, जहां स्टेशन पर ग्वालियर-चंबल के अधिकारी, स्वास्थ अमला और सुरक्षा बल मौजूद थे. सभी यात्रियों का ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर दोबारा चेकअप किया गया और स्क्रीनिंग की गई. इसके बाद इन यात्रिय़ों के लिए चंबल कमिश्नर ने घर तक पहुंचाने के लिए बसों का इंतजाम किया था.

ये भी पढ़ें :-

Corona Effect : MP की मस्जिदों में फिलहाल जुमे सहित कोई सामूहिक नमाज़ नहीं होगी
Covid-19 : देश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर, MP में यहीं मिले कोरोना के ज्यादा मरीज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 6:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर