लाइव टीवी

गलत तरीके से रासुका लगाने के मामले में भिंड कलेक्टर पर 25 हजार रुपए का जुर्माना
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 12, 2020, 4:18 PM IST
गलत तरीके से रासुका लगाने के मामले में भिंड कलेक्टर पर 25 हजार रुपए का जुर्माना
भिंड कलेक्टर पर पच्चीस हजार रु का जुर्माना

इससे पहले इसी महीने हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ मिलावट के मामले में रासुका के एक केस में गुना कलेक्टर (GUNA Collector) पर भी 25 हजार रुपए का जुर्माना लगा चुकी है.

  • Share this:
ग्वालियर. ग्वालियर हाईकोर्ट (gwalior high court) ने बीजेपी नेता (bjp leader) पर गलत तरीके से रासुका (NSA) लगाने के मामले में भिंड कलेक्टर (Bhind Collector) पर 25 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है. बीजेपी नेता की याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने माना कि कलेक्टर की ओर से की गयी राष्ट्रीय सुरक्षा काननू की कार्रवाई अवैधानिक है. इससे पहले इसी महीने हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ मिलावट के मामले में रासुका के एक केस में गुना कलेक्टर (GUNA Collector) पर भी 25 हजार रुपए का जुर्माना लगा चुकी है.
भिंड कलेक्टर ने बीजेपी नेता रामकरण पर लगाई थी रासुका
भिंड कलेक्टर ने अक्टूबर 2018 में रामकरण के खिलाफ रासुका लगाई थी. इस मामले में नवंबर 2019 में रामकरण की गिरफ्तारी हुई थी. उन पर लगाई गई वर्ष 2001 से 2009 के बीच रासुका में दर्ज किए गए 8 मामले और 2018 में दर्ज किए गए प्रकरण को आधार बताया गया था. रामकरण के वकील ने हाई कोर्ट में सबूतों के साथ दलील दी थी कि 2001 से 2008 के बीच के सभी 8 मामलों में रामकरण राजावत को बरी किया जा चुका है, जबकि एक मामले में हाई कोर्ट से स्टे मिला है.ऐसे में कलेक्टर ने झूठे आरोप के आधार पर रासुका की कार्रवाई की है. इस पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने बीजेपी नेता रामकरण पर भिंड कलेक्टर की ओर से रासुका लगाने के आदेश को निरस्त कर दिया.

कोर्ट ने की टिप्पणी- मूल्यवान समय बर्बाद किया है कलेक्टर 25 हजार रुपए जमा कराएं...

भिंड में पूर्व जनपद सदस्य और भाजपा नेता रामकरण सिंह राजावत के खिलाफ रासुका की कार्रवाई को नियम विरुद्ध बताते हुए मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने निरस्त कर दिया है. भाजपा नेता की बेटी आकांक्षा राजावत ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. इस प्रकरण की सुनवाई में हाईकोर्ट ने कहा कि कोर्ट का मूल्यवान समय बर्बाद हुआ है. ऐसे में भिंड कलेक्टर हाई कोर्ट रजिस्ट्री में 25 हजार रुपए जमा कराएं. इस आदेश से रामकरण सिंह और उनकी बेटी को मानसिक पीड़ा हुई. इसकी क्षतिपूर्ति के लिए मध्यप्रदेश शासन उनके खाते में 25 हजार रुपए जमा कराएं.

गुना कलेक्टर पर भी रासुका मामले में लगा था जुर्माना
इससे पहले ग्वालियर हाईकोर्ट गुना के ममता डेयरी संचालक प्रेम नारायण ग्वाला की तरफ से दायर की गई याचिका पर गुना कलेक्टर पर भी जुर्माना लगा चुका है. पिछले साल 28 जुलाई को गुना के जगदीश कॉलोनी में संचालित ममता डेयरी पर खाद्य विभाग और प्रशासन ने छापा मारा था. इस दौरान वहां से 500 लीटर से ज्यादा मिलावटी दूध मिला था. गुना कलेक्टर ने इसमें राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की थी और डेयरी संचालक प्रेमनारायण ग्वाल को केंद्रीय जेल ग्वालियर भिजवा दिया था. लेकिन कलेक्टर के इस आदेश को उस दौरान शासन से एप्रुवल नहीं मिला था. इसी आधार इस गिरफ्तारी के बाद प्रेमनारायण की तरफ याचिका दाखिल की गई थी. इस केस की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने डेयरी संचालक प्रेम नारायण ग्वाल को जमानत दी और फिर कलेक्टर और शासन पर 25 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था.ये भी पढ़ें-एक अनजान कॉल जो कहता है-आप कौन बनेगा करोड़पति के लिए लिए चुने गए हैं फिर...

संविदा कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज : मानदेय बढ़ाने और नौकरी में वापसी का ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 4:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर