होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /2 साल बाद पुलिस के हाथ लगा जालसाज बैंक मैनेजर, 18 करोड़ की धोखाधड़ी कर हुआ था फरार

2 साल बाद पुलिस के हाथ लगा जालसाज बैंक मैनेजर, 18 करोड़ की धोखाधड़ी कर हुआ था फरार

Gwalior News: मध्य प्रदेश के ग्वालियर के एक बैंक में 18 करोड़ की धोखाधड़ी करने वाले वांटेड मैनेजर सचिन सोनी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया  है.

Gwalior News: मध्य प्रदेश के ग्वालियर के एक बैंक में 18 करोड़ की धोखाधड़ी करने वाले वांटेड मैनेजर सचिन सोनी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

Gwalior News: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) के ग्वालियर (Gwalior Crime News) में 18 करोड़ की धोखधड़ी के मामले में फ ...अधिक पढ़ें

ग्वालियर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh)  के ग्वालियर में केनरा बैंक मैनेजर रहते हुए 18 करोड़ की धोखाधड़ी करने वाले वांटेड को पुलिस ने 2 साल की मशक़्क़त के बाद दबोच लिया. आरोपी पुलिस से बचने के लिए अपने ठिकाने बदल रहा था. इसके चलते ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने देशभर के 50 शहरों में छापा मार कार्रवाई की. उसके बाद खंडवा से आरोपी को दबोच लिया गया. पुलिस अब आरोपी से पूछताछ कर उसके द्वारा की गई जालसाजी के बारे में पता कर रही है. दरअसल, ग्वालियर के विश्विद्यालय थाना में साल 2017 में केनरा बैंक के तत्कालीन मैनेजर सचिन सोनी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ था. सचिन पर 18 करोड़ की धोखाधड़ी की FIR दर्ज हुई तो वो फरार हो गया था.

पुलिस ने उसके ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन वो हर बार बच कर निकल जाता था. पांच हज़ार का इनाम घोषित होने के बाद भी आरोपी मैनेजर पुलिस के हाथ नहीं लगा. आखिर में SP ने इस मामले में क्राइम ब्रांच को कार्रवाई के निर्देश दिए. विश्वविद्यालय और  क्राइम ब्रांच की दो अलग-अलग टीमें बनाई गईं, सायबर की मदद से आरोपी की लोकेशन चेन्नई में मिली. ग्वालियर क्राइम ब्रांच की टीम चेन्नई पहुंची तो आरोपी यहां से भाग निकला, लेकिन टीम लगातार पीछा करती रही. आरोपी मैनेजर पुणे महाराष्ट्र से MP के खंडवा आ गया  था. खंडवा में पहुंचकर ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने 2 दिन तक घेराबंदी की, जब पुष्टि हो गई तब आरोपी सचिन सोनी को दबोच लिया गया.

फर्जी लोन निकालकर 18 करोड़ रुपए डकारे

पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी सचिन सोनी ने मैनेजर रहते वक्त फर्जी ग्राहकों नामों पर 18 करोड़ का लोन फाइनेंस कराया था और फर्जी आईडी से लोन के रूपए  निकाले गए हैं. कुछ दिन बाद ये फर्जीवाड़ा पकड़ में आया तो भनक लगते ही आरोपी मैनेजर सचिन सोनी  फरार हो गया. इसके बाद बैंक प्रबंधन ने थाने में FIR दर्ज कराई.

ये भी पढ़ें: MPPSC 2020 प्री में फेल होने के बावजूद 15 उम्मीदवार देंगे मुख्य परीक्षा, जानें पूरी वजह 

ASP राजेश दंडौतिया का कहना है कि पांच हजार रुपए के इनामी बैंक मैनेजर को पकड़ा गया है. आरोपी ने 18 करोड़ रुपए के फर्जी लोन कराए थे. आरोपी से पूछताछ की जा रही है. जल्द ही अन्य खुलासे हो सकते हैं. पुलिस पूछताछ में पता चला है कि आरोपी पर कुल 6 मामले दर्ज है, जिसमें एक क्राइम ब्रांच और पांच विश्वविद्यालय में दर्ज है.

Tags: Bank fraud, Gwalior news, Mp news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें