लोकसभा चुनाव 2019 : ग्वालियर-चंबल में क्या फिर तैयार हो रहे हैं बाग़ी!

फाइल फोटो
फाइल फोटो

कांग्रेस का दावा है कि बीजेपी के वर्तमान सांसद अनूप मिश्रा और पूर्व सांसद अशोक अर्गल बड़े नेता हैं, जो अब बीजेपी का आत्मघाती दस्ता बन चुके हैं.

  • Share this:
 ग्वालियर-चंबल में  इस वक्त बीजेपी में बग़ावत के हालात हैं. बीजेपी के लिए मुरैना के वर्तमान और भिंड के पूर्व सांसद मुसीबत बन गए हैं. मुरैना से सांसद अनूप मिश्रा का टिकट काट दिया गया है उनकी जगह, ग्वालियर सांसद और केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को पार्टी ने ग्वालियर से मुरैना शिफ्ट कर दिया है. अब मिश्रा के बाग़ी होने का डर है. उधर भिंड में पूर्व सांसद अशोक अर्गल की बजाए संध्या राय को मैदान में उतार कर एक और मुसीबत खड़ी कर ली है. अशोक अर्गल के कांग्रेस में जाने की चर्चा है. कांग्रेस इन असंतुष्टों को बीजेपी का आत्मघाती दस्ता बता रही है.


पिछले आठ चुनाव से भिंड सीट पर बीजेपी का कब्ज़ा है. बीजेपी ने भिंड से मौजूदा सांसद भागीरथ प्रसाद का टिकट काटकर संध्या राय को मैदान में उतारा है. भिंड सीट से बीजेपी से पांच बार सांसद रहे मुरैना के वर्तमान महापौर अशोक अर्गल ने दावा किया था. टिकट न मिलने से अशोक अर्गल के बीजेपी छोड़ कांग्रेस में जाने की चर्चा चल रही है. अशोक अर्गल बीजेपी के टिकट पर मुरैना से 1996, 1998, 1999 और 2003 में चुनाव जीतकर सांसद बने.  परिसीमन के बाद 2009 में अर्गल भिंड सीट से बीजेपी के टिकट पर जीतकर सांसद बने. लेकिन 2014 में अर्गल की बजाए कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए  भागीरथ प्रसाद को पार्टी ने भिंड से टिकट दे दिय़ा था। अब इस बार भागीरथ प्रसाद का टिकट कटा तो अर्गल को वहां से टिकट मिलने की पूरी उम्मीद थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. बीजेपी ने दिमनी की पूर्व विधायक संध्या राय को मैदान में उतार दिया.




 मुरैना सीट पर बीजेपी ने वर्तमान सांसद अनूप मिश्रा का टिकट काटकर नरेंद्र सिंह तोमर को टिकट दे दिया. ग्वालियर सीट पर अनूप मिश्रा का पैनल तक में नाम नहीं है. अनूप मिश्रा को ग्वालियर या गुना सीट से टिकट मिलने की उम्मीद है, अगर टिकट नहीं मिला तो वो पार्टी के खिलाफ बगावती तेवर अपना सकते हैं.सूत्रों का दावा है कि अनूप मिश्रा कांग्रेस का दामन थामकर मुरैना से उम्मीद्वार हो सकते हैं.



 हालांकि तोमर का दावा है कि अशोक अर्गल उनके पास हैं साथ हैं और अनूप मिश्रा पारिवारिक कार्यक्रम में इंदौर गए हैं.




उधर विधान सभा चुनाव में सफलता के बाद लोकसभा में कमाल करने की उम्मीद लगाए बैठी कांग्रेस को बीजेपी की वर्तमान परिस्थितियों में फायदा होने की उम्मीद है. कांग्रेस का दावा है कि बीजेपी के वर्तमान सांसद अनूप मिश्रा और पूर्व सांसद अशोक अर्गल बड़े नेता हैं, जो अब बीजेपी का आत्मघाती दस्ता बन चुके हैं. विधानसभा चुनाव में भिंड-दतिया लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस को जोरदार सफलता मिली थी. कांग्रेस को 8 में से 5 सीटें मिली हैं. बीजेपी के पास 1 और बीएसपी के पास 1 सीट है. 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पास महज 2 और बीजेपी के कब्जे में 6 सीट थीं.

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी







अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज