जिला प्रशासन की कार्रवाई, अवैध पानी फिल्टर प्लांट को सील किया

कमलनाथ सरकार के आदेश के बाद सरकारी मशीनरी अब पूरी तरह से एक्शन में है. इसी कड़ी में ग्वालियर में जिला प्रशासन ने सिरोल रोड पर अवैध पानी के फिल्टर प्लांट को सील किया है.

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 25, 2019, 11:15 PM IST
जिला प्रशासन की कार्रवाई, अवैध पानी फिल्टर प्लांट को सील किया
ग्वालियर - वाटर प्लांट का लाइसेंस 2016 में ही लैप्स हो चुका है.
Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 25, 2019, 11:15 PM IST
कमलनाथ सरकार के आदेश के बाद सरकारी मशीनरी अब पूरी तरह से एक्शन में है. इसी कड़ी में ग्वालियर में अवैध पानी के फिल्टर प्लांट को लेकर जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है. जिला प्रशासन ने सिरोल रोड पर अवैध पानी के फिल्टर प्लांट को सील किया है. दरअसल जिला प्रशासन ऑपरेशन विशुद्ध के तहत ये कार्रवाई कर रहा है. प्रशासन का ये पांचवा दिन है, जब अधिकारियों ने अपने कार्यालय से निकलकर फील्ड में अवैध रूप से मिलावटी खाद्य पदार्थों के ऊपर कार्रवाई की है. इससे पहले प्रशासन शहर भर में दूध, दही, पनीर, मावा और पानी कीकोल्ड ड्रिंक को लेकर अपनी कार्रवाई कर चुका है.

लाइसेंस रिन्यू नहीं कराया

आपको बता दें कि प्रशासन अब उन लोगों को चिह्नित करने में लगा हुआ है, जो लगातार मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाते हैं. ऐसे लोगों को प्रशासन चिह्नित करके उनके ऊपर जल्द ही रासुका की कार्रवाई करने वाला है. इस बारे में ग्वालियर के एसडीएम अनिल बनवरिया ने कहा कि प्रशासन को सुबह में सूचना मिली थी. उन्होंने कहा कि यहां पर आरओ प्लांट चलाया जा रहा है और प्रोसेसिंग ठीक से नहीं हो रही है. यह भी सूचना मिली थी नल से डायरेक्ट पानी भरा जा रहा है. जांच करने पर पता चला कि फूड सेफ्टी लाइसेंस 2016 में ही लैप्स हो चुका है. यानि बिना लाइसेंस के ही ये काम किया जा रहा है.

साथ ही जांच में यह भी पता चला कि यह प्लांट किराये की बिल्डिंग में 2014 से चल रहा है. पटवारी के अनुसार कोई डायवर्सन टैक्स भी नहीं दिया गया है. एसडीएम ने आगे कहा कि भवन स्वामी से 2014 से टैक्स लिया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि यहां खाने-पीने के स्थान पर गंदगी बहुत है. सफाई का पालन बिल्कुल नहीं किया जा रहा है. टॉयलेट के पास में पीने के पानी की बोतलें रखी हुई हैं. कुत्ते भी आसपास में घूम रहे हैं. उन्होंने कहा कि इनके पास आईएसआई की अनुमति भी नहीं है.  इन सारे कारणों के चलते ही प्लांट को सील किया जा रहा है.

ये भी देखें - कलेक्टर बनीं पैडवुमन, महिलाओं में फैलाएंगी जागरूकता

ये भी देखें - बारिश में भीगकर बर्बाद हो रही है विद्यार्थियों की साइकिलें

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 25, 2019, 11:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...