Home /News /madhya-pradesh /

dr govind singh won 7 consecutive elections from lahar assembly seat even ram lehar could not defeat mpsg

लहार के अजेय योद्धा हैं डॉ. गोविंद सिंह : लगातार 7 बार जीते, राम और मोदी लहर भी हरा नहीं पायी

Govind Singh New Leader Of Opposition. नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने के बाद गोविंद सिंह ने पीसीसी चीफ कमलनाथ से मुलाकात  की.

Govind Singh New Leader Of Opposition. नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने के बाद गोविंद सिंह ने पीसीसी चीफ कमलनाथ से मुलाकात की.

MP Latest Political News. डॉ. गोविंद सिंह को दिग्विजय गुट का नेता माना जाता है. यही वजह है दिग्गी राजा ने सिंधिया के खिलाफ गोविंद सिंह को उतारने के लिए नेता प्रतिपक्ष बनवाने आला कमान के सामने जोर लगाया था. नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद अब गोविंद सिंह BJP नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनौती देंगे. ग्वालियर चंबल अंचल में 34 विधानसभा सीट हैं. 2018 में कांग्रेस ने 26 सीट जीती थीं. हालांकि सिंधिया के BJP में जाने के बाद 2020 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने कुछ सीटें गंवा भी दीं. लेकिन अब भी अंचल की 34 में से 17 सीट कांग्रेस के पास हैं. 16 BJP के खाते में और एक BSP के पास है. यानि कांग्रेस अभी भी बीजेपी से एक सीट आगे है.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. डॉ गोविंद सिंह ने भिंड जिले की लहार विधानसभा सीट के अजेय योद्धा हैं. इस सीट से लगातार 7 बार चुनाव जीतने का रिकॉर्ड उनके नाम है. वो यहां से 1990 से लेकर 2018 तक लगातार 7 बार विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं. MP में BJP के गोपाल भार्गव ही ऐसे नेता हैं जो एक ही सीट से 8 बार लगातार विधानसभा चुनाव जीते हैं. और सबसे बड़ा रिकॉर्ड बीजेपी नेता पूर्व सीएम स्व. बाबूलाल गौर के नाम है जो भोपाल की गोविंदपुरा सीट से 10 बार चुनाव जीते थे.

भिंड जिले की लहार विधानसभा सीट भी कांग्रेस का वो किला है, जिसे बीजेपी भेद नहीं पाई है. इस सीट पर कांग्रेस के कद्दावर नेता डॉ. गोविंद सिंह 1990 से अंगद की तरह पैर जमाए हुए हैं. गोविंद सिंह ने अब तक 7 बार विधानसभा चुनाव जीते हैं. एक भी विधानसभा चुनाव नहीं हारा है. यहां तक कि लहार सीट पर 1990 की राम लहर भी उन्हें नहीं हरा पायी थी. 2003 की उमा लहर, 2008 की शिवराज लहर और 2013 की शिवराज- मोदी लहर में भी वो कांग्रेस का परचम लहराए खड़े रहे.

 लहार सीट पर गोविंद सिंह का चुनावी इतिहास

1990- गोविंद सिंह ने बीजेपी के मथुरा महंत को 14617 वोटों से मात दी.

1993 – गोविंद सिंह ने बीजेपी के मथुरा महंत को फिर से 7822 वोटों से हराया.

1998 – गोविंद सिंह ने बीजेपी के मथुरा प्रसाद को 6086 वोटों से शिकस्त दी.

2003 – गोविंद सिंह ने बीएसपी के रामाशंकर सिंह को 4085 वोटों से हराया. बीजेपी तीसरे स्थान पर खिसक गई.

2008 – गोविंद सिंह ने बीएसपी के रमेश महंत को 4878 वोटों से शिकस्त दी, इस बार भी बीजेपी तीसरे नंबर पर रही.

2013 – गोविंद सिंह ने बीजेपी के रसाल सिंह को 6272 वोटों से मात दी.

2018- गोविंद सिंह ने बीजेपी के रसाल सिंह को 9073 वोट से हराया

ये भी पढ़ें- सिंधिया के घोर विरोधी हैं डॉ गोविंद सिंह, कांग्रेस में भी दोनों में थे मतभेद, अब खुलकर आमने सामने होंगे

ग्वालियर चंबल में सिंधिया को देंगे चुनौती
डॉ. गोविंद सिंह को दिग्विजय गुट का नेता माना जाता है. यही वजह है दिग्गी राजा ने सिंधिया के खिलाफ गोविंद सिंह को उतारने के लिए नेता प्रतिपक्ष बनवाने आला कमान के सामने जोर लगाया था. नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद अब गोविंद सिंह BJP नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनौती देंगे. ग्वालियर चंबल अंचल में 34 विधानसभा सीट हैं. 2018 में कांग्रेस ने 26 सीट जीती थीं. हालांकि सिंधिया के BJP में जाने के बाद 2020 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने कुछ सीटें गंवा भी दीं. लेकिन अब भी अंचल की 34 में से 17 सीट कांग्रेस के पास हैं. 16 BJP के खाते में और एक BSP के पास है. यानि कांग्रेस अभी भी बीजेपी से एक सीट आगे है.

कांग्रेस के लिए अच्छा संदेश
डॉ. गोविंद सिंह के नेता प्रतिपक्ष बनने से ग्वालियर चंबल अंचल में कांग्रेस को मजबूती मिलेगी. सिंधिया के भाजपा में जाने के बाद अंचल में कांग्रेस नेतृत्व विहीन नज़र आ रही थी. गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी मिलने से कांग्रेस 2023 के लिए BJP के सामने बड़ी चुनौती पेश करेगी.

Tags: Dr. Govind Singh, Know Your Leader, Madhya Pradesh Congress, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर