5000 के लिए दोस्तों ने की दोस्त की हत्या, ऐसे दिया हत्याकांड को अंजाम, 3 गिरफ्तार

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में कुछ दोस्तों ने मिलकर दोस्त की हत्या कर दी. ये हत्या महज 5 हजार रुपए के लिए की गई. (File)

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में 5000 रुपए के लिए हत्या कर दी गई. दोस्तों ने मिलकर दोस्त की जान ले ली. पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इस हत्याकांड के बाद सनसनी फैल गई है.

  • Share this:
ग्वालियर. ग्वालियर में महज पांच हजार रुपए की उधारी न चुकाने पर युवक को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. दोस्तों ने ही दोस्त को मौत के घाट उतार दिया. पुलिस ने गौरव सोनी हत्याकांड में ये सनसनी खुलासा किया. जनकगंज पुलिस ने जांच के बाद तीनों आरोपियों को दबोच लिया है.

ग्वालियर के नवग्रह कॉलोनी में रहने वाले गौरव सोनी की बुधवार सुबह झाड़ियों में लाश मिली थी. मृतक के शरीर पर लगे चोंटो को देखने बाद ये साफ था कि गौरव की हत्या हुई थी. गौरव के मोबाइल नंबर की डिटेल और रहवासियों से पूछताछ में खुलासा हुआ कि मौत से पहले गौरव आखिरी बार विशाल जाटव के साथ नजर आया था. खबर लगते ही पुलिस ने विशाल को दबोच लिया. विशाल के बयानों के आधार पर दो अन्य आरोपी भी पुलिस गिरफ्त में आ गए.

सिर पर मारा सरिया

हत्याकांड में  पुलिस की जांच में खुलासा हुआ कि गौरव ने विशाल जाटव से पांच हजार रुपए उधार लिए थे. काफी दिनों बाद भी जब गौरव ने विशाल के रुपए नहीं लौटाए तो बुधवार की रात विशाल जाटव ने अपने साथियों के साथ गौरव को तलाशा. पता लगने पर विशाल अपने साथियों के गौरव के पास खेत में पहुंचा. गौरव खुद भी सरिया लेकर बैठा था.

गौरव और विशाल में रुपए लौटाने को लेकर बहस हो गई. बहस के दौरान विशाल और उसके साथियों ने गौरव के सिर पर सरिए से हमला कर दिया. घटना के बाद सभी आरोपी बहोड़ापुर जाकर छिप गए थे. एडिशनल एसपी सत्येंद्र सिंह तोमर ने बताया कि आरोपियों पूछता की जा रही है.

11 साल के बच्चे की मौसा ने ही की थी हत्या

ग्वालियर के गिरवाई थाना के अजयपुर में रहने वाला 11 साल का बच्चा अमित 9 जून की दोपहर लापता हो गया था. दूसरे दिन अमित की लाश पहाड़ी पर पत्थरों में दबी मिली थी. गिरवाई पुलिस ने मामले की जांच की तो हैरान करने वाला खुलासा हुआ.  SP अमित सांघी ने बताया कि 9 जून को अमित जब घर के बाहर चबूतरे पर बैठा था तो उसका मौसा धर्मेंद्र आया और अमित को आम तोड़ने के बहाने बुलाकर ले गया. दोनों वीरपुर के जंगल मे पहुंच गए. जब बच्चा अमित पेड़ के नीचे खड़ा था, उसी दौरान आरोपी धर्मेंद्र ने अमित के गले में बंधा सोने का लॉकेट तोड़ने के लिए पीछे खींचा. लेकिन लोकेट का धागा नहीं टूटा, लेकिन बच्चा अमित इस झटके से बेहोश होकर नीचे गिर गया.

अमित के बेहोश होने के बाद आरोपी धर्मेंद्र ने उसके कान से बाली निकाली और बच्चे को मृत समझकर वह उठाकर पहाड़ पर ले गया. वहां  पत्थर से अमित के गले का धागा तोड़ कर सोने का लॉकेट निकाला. बच्चे को वहीं गड्ढे में पटक दिया, उसके ऊपर भारी पत्थर से वार करने के बाद पत्थर रख दिए. घटना के बाद आरोपी धर्मेंद्र सोने का लॉकेट और कान की बाली लेकर बाजार पहुंचा और महज़ 1800 रुपए में बेच डाले.  शक न हो इसलिए 9 जून की शाम धर्मेंद्र भी अमित के परिवार वालों के साथ मिलकर बच्चे को लाशने का नाटक करता रहा. 10 जून को जब बच्चे की लाश मिली तो धर्मेंद्र पुलिस कार्रवाई, पोस्ट मार्टम से लेकर अमित के अंतिम संस्कार में भी शामिल हुआ.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.