मास्क नहीं लगाया तो 3 दिन Corona वालंटियर बनना पड़ेगा, ग्वालियर कलेक्टर का आदेश
Gwalior News in Hindi

मास्क नहीं लगाया तो 3 दिन Corona वालंटियर बनना पड़ेगा, ग्वालियर कलेक्टर का आदेश
ग्वालियर में मास्क के बगैर बाहर निकले तो जुर्माने के साथ-साथ वॉलंटियर के रूप में करना होगा काम.

मध्य प्रदेश में COVID-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिए चल रहे 'किल कोरोना' अभियान (Kill corona campaign) के बीच ग्वालियर कलेक्टर ने नया आदेश जारी किया है.

  • Share this:
ग्वालियर. मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण रोकने के लिए राज्य सरकार 'किल कोरोना' अभियान (Kill corona campaign) चला रही है. इसके तहत प्रदेश के सभी जिलों के पुलिस-प्रशासन को वायरस का संक्रमण रोकने के लिए एहतियाती कदम उठाने के आदेश दिए गए हैं. इसी क्रम में ग्वालियर जिले के कलेक्टर (Gwalior Collector) ने आज नया आदेश जारी किया. इस आदेश में कहा गया है कि बिना मास्क पहने अगर कोई व्यक्ति पकड़ा जाता है, तो उसे 3 दिन कोरोना वालंटियर (Corona Volunteer) के रूप में काम करना होगा. COVID-19 संक्रमण रोकने को लेकर दिए गए इस आदेश के तहत कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने कहा है कि कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने वालों पर न सिर्फ जुर्माना लगाया जाएगा, बल्कि उन्हें अस्पताल या अन्य जगहों पर जाकर सेवा करनी होगी. 'किल कोरोना' अभियान के तहत अधिकारियों के साथ सोमवार को बैठक के दौरान कलेक्टर ने यह आदेश जारी किया.

ग्वालियर के कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने अपने आदेश में कहा है कि इसके तहत सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों को 3 दिन के लिए कोरोना वालंटियर के रूप में काम करना होगा. प्रशासन क्षमता के अनुरूप ऐसे वालंटियर्स की ड्यूटी जिला प्रशासन के चेकपोस्ट, अस्पताल और दूसरे संस्थानों में लगा सकेगा. कलेक्टर ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिले में सख्ती बरतना आवश्यक हो गया है. ग्वालियर में शनिवार-रविवार को एक ही दिन में 120 मरीज मिलने से प्रशासन सकते में है. कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा देखते हुए प्रशासन ने संक्रमण की रोकथाम के लिए सोमवार से यह नया प्रयोग लागू करने का फैसला किया है.

ये भी पढ़ें :- CORONA ड्यूटी में तैनात डॉक्टरों को सैलरी नहीं, कांग्रेस ने सरकार पर कसा तंज



संक्रमण रोकने के लिए नया प्रयोग लागू करने के पीछे प्रशासन का मानना है कि सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वाले लोग देखें कि अफसर या कर्मचारी किस तरह दिनभर ऑफिस या अन्य जगहों पर कैसे काम कर रहे हैं. प्रशासन का कहना है कि पिछले 4 महीने से लगातार लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और मास्क लगाने को कहा जा रहा है. इसको लेकर जुर्माना लगाने का नियम भी लागू किया गया. बावजूद इसके अब भी कई लोग लापरवाही बरत रहे हैं.
ये भी पढ़ें :- MP Assembly by Election : टाइगर से शुरू राजनीति चप्पल पर आ टिकी!

इसके कारण ही ग्वालियर में कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. ऐसे में संक्रमण की रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाना जरूरी है. कलेक्टर ने जिले की सीमाओं पर इस बाबत विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं. आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में किल-कोरोना अभियान के तहत सरकार के निर्देश पर डोर-टू-डोर सर्वे का काम चल रहा है. इस दौरान कोरोना के मरीजों की पहचान और पड़ताल की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading