इंग्लैंड में फंसे ग्वालियर के छात्र ने वीडियो जारी कर PM मोदी से लगाई मदद की गुहार
Gwalior News in Hindi

इंग्लैंड में फंसे ग्वालियर के छात्र ने वीडियो जारी कर PM मोदी से लगाई मदद की गुहार
कोरोना के कहर के चलते इंग्लैंड के लीड्स में भी टोटल लॉकडाउन हो गया.

इंग्लैंड (England) के लीड्स शहर में फंसे ग्वालियर (Gwalior) के एक छात्र ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) से मदद की गुहार लगाई है.

  • Share this:
ग्वालियर. इंग्लैंड (England) के लीड्स शहर में फंसे ग्वालियर (Gwalior) के एक छात्र ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) से मदद की गुहार लगाई है. ग्वालियर के समाधिया कॉलोनी में रहने वाला चिराग इसरानी लीड्स शहर में एमबीए की पढ़ाई कर रहा है. लॉकडाउन के चलते चिराग दो महीने से इंग्लैंड में ही फंसा है. यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले उसके साथी छात्र घर जा चुके हैं. अब अकेला फंसा चिराग पीएम मोदी से वतन वापसी के लिए गुहार लगा रहा है.

एबीए की पढ़ाई कर रहा है चिराग
चिराग पिछले साल सितंबर से इंग्लैंड की लीड्स युनिवर्सिटी में है. मार्च में लॉकडाउन हुआ तो चिराग की मुसीबतें बढ़ गई. कोरोना के कहर के चलते इंग्लैंड के लीड्स में भी टोटल लॉकडाउन हो गया. जिसके चलते चिराग दो महीने से भोजन के लिए भी परेशान हो रहा है. यूनिवर्सिटी दो महीने से बंद है. उसके साथ पढ़ने वाले छात्र जा चुके हैं. वह अकेला है और कोई मदद करने वाला भी नहीं है.

चिराग ने वीडियो जारी कर अपनी पीड़ा बताई है और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उसे भारत लाने की गुहार लगाई है. वीडियो में चिराग ने कहा, ''मेरा नाम चिराग इसरानी है,  मैं ग्वालियर (मप्र) का रहने वाला हूं. मैं करीब आठ महीने पहले एमबीए की पढ़ाई करने के लिए लीड्स आया था. तभी से यहां हूं. कोविड-19 की वजह से करीब दो महीने  से यूनिवर्सिटी बंद है. यहां लॉकडाउन की वजह से एक कमरे में हूं. बहुत डिप्रेशन में हूं. दैनिक जरूरत की चीजों के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है. मेरी भारत के प्रधानमंत्री से गुहार है कि मुझे यहां से निकालें और भारत पहुंचाएं.
मकान बेचने को मजबूर हो गए हैं पिता


इधर ग्वालियर में रहने वाले चिराग के परिजन भी चिंतित है. चिराग के पिता अनिल इसरानी ने कहा कि धंधा बंद है. बेटे को वापस लाने के लिए मकान बेचना पड़ेगा, उन्होंने बताया कि उनका टीन के डिब्बों का छोटा-मोटा कारोबार है. लॉकडाउन के चलते धंधा बंद पड़ा है. बेटे के लिए अब उधार में रुपये भेजने पड़ रहे हैं. अब वो मकान बेचने को मजबूर हो गए हैं. अनिल के मुताबिक उन्होंने सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधियों से मदद की गुहार लगाई है.

ये भी पढ़ें- इन महाशय ने पान खाकर सड़क पर थूक दिया था, फिर देखिए क्या हुआ...

मेधा पाटकर ने ख़त्म किया अनशन, प्रवासी मज़दूरों के लिए उठायी थीं ये मांगें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading