लाइव टीवी

ग्वालियर की पहलवान रानी राणा ने 'यूनिवर्सिटी कुश्ती' में जीता गोल्ड मेडल
Gwalior News in Hindi

Sushil Koushik | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 28, 2020, 12:28 PM IST
ग्वालियर की पहलवान रानी राणा ने 'यूनिवर्सिटी कुश्ती' में जीता गोल्ड मेडल
यूनिवर्सिटी खेलों में रानी राणा ने जीता सोना

ग्वालियर की रानी राणा ने उड़ीसा के भुवनेश्वर में आयोजित 'यूनिवर्सिटी खेलो इंडिया गेम्स 2020' में गोल्ड मेडल (Gold Medal) हासिल किया है. रानी नेशनल रेसलिंग में गोल्ड मेडल जीतने वाली मध्य प्रदेश की पहली महिला रेसलर भी हैं.

  • Share this:
ग्वालियर. मध्य प्रदेश की महिला पहलवान (Women werstler) रानी राणा ने एक बार फिर से कमाल कर दिखाया है. रानी ने गुरुवार रात उड़ीसा के भुवनेश्वर में आयोजित 'यूनिवर्सिटी खेलो इंडिया गेम्स 2020' में गोल्ड मेडल हासिल किया है. रानी ने गुरु जम्भेश्वर युनिवर्सिटी की पहलवान जीविका को पटखनी देकर गोल्ड मेडल जीता है. गौरतलब है कि रानी राणा ग्वालियर जिले के जखौरा गांव की रहने वाली है, जहां किसी जमाने में बेटियां घर की चार-दिवारी से बाहर नहीं निकलती थीं.

चंबल की रानी ने गोल्ड जीता
उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्नर में 'यूनिवर्सिटी खेलो इंडिया गेम्स 2020' का आयोजन किया गया. इसमें महिला रेसलिंग में देश के विश्वविद्यालयों से 8 महिला सुपर पहलवान शामिल हुई थीं. ग्वालियर की रानी राणा ने जलंधर की लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी की तरफ से इस प्रतियोगिता मे भाग लिया था. रानी राणा ने 55 किलो वर्ग में भाग लिया था, जिसमें रानी ने स्वर्ण पदक जीता. रानी के कोच अजय वैष्णव ने बताया इस स्पर्धा में ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी के सुपर 8 खिलाड़ियों को ही भाग लेने की पात्रता थी. उन सभी खिलाड़ियों में रानी राणा ने अपनी श्रेष्ठता साबित करते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है.

छोटे से गांव से निकली रानी ने लहराया परचम



गौरतलब है रेसलर रानी ग्वालियर जिले के जखौरा गांव की रहने वाली है. रानी राणा ने न्यूज 18 से बातचीत करते हुए बताया कि छोटे से गांव में बेटियों ज्यादा पढ़ना तक नसीब नहीं होता था और छोटी उम्र में ही शादी कर विदा होना पड़ता था. इन हालातों में गांव की किसी बेटी का कुश्ती में करियर बनाना सपने जैसा था. जब उसने कुश्ती में करियर बनाने की बात कही तो घरवाले विरोध में आ गए. लेकिन रानी तैयारी करती रही. रानी के दादा राम सिंह राणा कहते है कि जब रानी ने स्कूल लेवल पर कुश्ती लड़ना शुरु किया तो गांव वाले उसके परिवार वालों को ताना तक देते थे, लेकिन रानी ने इतिहास रचना शुरु किया तो गांव वाले उसकी तारीफ करने लगे हैं.

मेडल जीतने का सिलसिला
पिछले साल रानी राणा ने 55 किलोग्राम वर्ग में नेशनल का गोल्ड मेडल जीता था. महाराष्ट्र के शिरडी में आयोजित नेशनल वुमन रेसलिंग चैंपियनशिप में रानी राणा ने एमपी को ऐतिहासिक कामयाबी दिलाई थी. रानी नेशनल रेसलिंग में गोल्ड मेडल जीतने वाली मध्य प्रदेश की पहली महिला रेसलर बनी थी. रानी राणा 5 सालों तक एमपी की युनिवर्सिटी चैम्पियन रह चुकी हैं और पिछले 2 सालों से राजस्थान-मध्यप्रदेश महिला केसरी प्रतियोगिता का खिताब भी जीत रहीं हैं.

सुशील कौशिक

ये भी पढ़ें - 
ताप्ती महोत्सव में हो गयी बिजली गुल, अंधेरे में भाषण देकर लौट गए मंत्रीजी
आयकर विभाग की छापेमारी से MP-छत्तीसगढ़ में मचा हड़कंप, जानिए इनसाइड स्‍टोरी!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्वालियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2020, 12:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर