COVID-19 गाइडलाइन उल्लंघन: नरेंद्र सिंह तोमर, कमलनाथ सहित कई नेताओं पर होगी FIR, HC का निर्देश

पूर्व सीएम कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ सकती है.
पूर्व सीएम कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ सकती है.

मध्य प्रदेश में COVID-19 गाइडलाइन के उल्लंघन मामले में केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर,पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सहित कई बड़े नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज करने के निर्देश हाई कोर्ट की ग्वालियर बेंच ने दिए हैं.

  • Share this:
ग्वालियर. कोविड- 19 गाइडलाइन (COVID-19) उल्लंघन के मामले में हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने बड़ा निर्देश दिया है. कोर्ट ने ग्वालियर चंबल संभाग के 7 जिलों कलेक्टर एसपी को 14 अक्टूबर तक उनके इलाके में हुए राजनीतिक कार्यक्रम में शामिल नेताओं पर मामले दर्ज करने के आदेश दिए हैं. जानकारी के मुताबिक, जिन नेताओं पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए है उनमें केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar), बीजेपी के प्रत्याशी और ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, मुन्नालाल गोयल शामिल हैं. तो वहीं कांग्रेस के जिन नेताओं पर केस दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं उनमें पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath), भांडेर से प्रत्याशी फूल सिंह बरैया, ग्वालियर पूर्व से प्रत्याशी डॉ. सतीश सिकरवार और मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत है का नाम शामिल है. इन सभी लोगों द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में तय संख्या से अधिक लोग शामिल हुए थे.

इधर, मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने मिनी वचन पत्र जारी किया है. इस मिनी वचन पत्र से राहुल गांधी आउट हैं. इसके कवर पर इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी के साथ पीसीसी चीफ कमलनाथ की फोटो है, लेकिन राहुल गांधी की नही हैं. साल 2018 के विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस पार्टी ने जो वचन पत्र जारी किया था, उसमें फ्रंट पेज पर फ्रंट फोटो राहुल गांधी का था, लेकिन अब 28 सीटों के उपचुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने वचन पत्र और उपलब्धियों का सारांश जनता के सामने पेश किया गया है. उसमें इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी के साथ सिर्फ पीसीसी चीफ कमलनाथ का फोटो है. कांग्रेस पार्टी ने अपने वचन पत्र में कमलनाथ की सरकार, सवा साल का कार्यकाल, सभी जनता से खुशहाल, का स्लोगन दिया है. सरकार पिछली सरकार की उपलब्धियों का क्रेडिट कमलनाथ लेते हुए नजर आ रहे हैं. अब जो मिनी वचन पत्र तैयार किया है, उसकी जिम्मेदारी भी कमलनाथ अपने ऊपर लेते हुए दिखाई दे रहे हैं.





बीजेपी का हाईटेक रथ तैयार
वहीं उपचुनाव में प्रचार के लिए आज बीजेपी ने भोपाल से रथ रवाना किया है. ये हाईटेक रथ हैं. जो उपचुनाव वाले इलाकों में मोदी और शिवराज सरकार की नीतियों का गुणगान करेंगे. गौर करने वाली बात ये है कि इन रथों में सिर्फ शिवराज और वीडी शर्मा का फोटो है. मगर जिन 'महाराज' ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से प्रदेश में कमलनाथ सरकार गिरी और बीजेपी सरकार बनी, उन्हीं सिंधिया का फोटो रथ में नहीं लगाया गया है.

ये भी पढ़ें: हाथी पर बैठ कर योग कर रहे थे बाबा रामदेव, अचानक नीचे गिरे, देखें VIDEO 

उपचुनाव वाली सीटों पर जनता से सीधे संपर्क बनाने के लिए बीजेपी ने 28 वीडियो रथ आज रवाना किए. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा ने झंडी दिखाकर रथों को उनके विधानसभा इलाकों के लिए रवाना किया. लेकिन इन वीडियो रथों पर कहीं भी ज्योतिरादित्य सिंधिया का फोटो नहीं था. आपको बता दें कि कुछ दिन पहले सोशल मीडिया में सिंधिया का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें वह खुद को ग्वालियर का महाराज बताते नजर आए हैं. न्यूज 18 हालांकि इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज