Home /News /madhya-pradesh /

'इस बार करवा चौथ पति के साथ नहीं मनाऊंगी' पत्नी ने प्रेमी संग की हत्या, रातभर सोती रही शव के बगल में

'इस बार करवा चौथ पति के साथ नहीं मनाऊंगी' पत्नी ने प्रेमी संग की हत्या, रातभर सोती रही शव के बगल में

ग्वालियर पुलिस ने परिक्षित रावत मर्डर केस में खुलासा कर दिया है. मामले में मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया गया है.

ग्वालियर पुलिस ने परिक्षित रावत मर्डर केस में खुलासा कर दिया है. मामले में मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया गया है.

Gwalior Murder Case News: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर जिले में 6 सितम्बर को मिली परीक्षित रावत की लाश के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. परीक्षित की मौत हादसा नहीं हत्या (Murder) थी. पत्नी के लव अफेयर के चलते परीक्षित की हत्या हुई थी. हत्या की वारदात को 4 सितंबर की रात चीनोर के देवरी कला गांव में अंजाम दिया गया था. पुलिस का दावा है कि जांच में हत्या का राज खुला तो पत्नी की बेवफाई की कहानी सामने आई है. पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची थी और शातिराना तरीके से लाश को ठिकाने लगा दिया था.

अधिक पढ़ें ...

ग्वालियर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर (Gwalior) में दो बच्चों की मां 29 साल की माशूका ने अपने 21 साल के प्रेमी (Lover) से कहा- कि इस बार वो अपने पति के साथ करवा चौथ नहीं मनाएगी. प्रेमी ने माशूका के पति को मौत के घाट उतार दिया और लाश को नहर में फेंक दिया. माशूका और प्रेमी ने शातिराना अंदाज में हत्याकांड (Murder Case) को अंजाम दिया, लेकिन माशूका की एक सिम कार्ड  ने पूरी वारदात (Crime) का राज खोल दिया. पुलिस ने बीते 24 अक्टूबर को करवा चौथ की रात हत्याकांड का खुलासा कर दिया. मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में बीते 6 सितम्बर को मिली परीक्षित रावत की लाश के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. दरअसल परीक्षित की मौत हादसा नहीं हत्या थी. पत्नी के लव अफेयर के चलते परीक्षित की हत्या हुई थी. हत्या की वारदात को 4 सितंबर की रात चीनोर के देवरी कला गांव में अंजाम दिया गया था.

6 सितंबर 2021 को चीनोर थाना पुलिस को पुरानी नहर में एक युवक की लाश तैरती मिली थी. पुलिस ने लाश को बरामद कर मामले की जांच शुरू की. मरने वाले के दोनों हाथों पर टैटू बने हुए थे. काफी खोजबीन के बाद मरने वाली की पहचान नहीं हो पाई थी. पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम कराया. पीएम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि युवक की नहर में डूबने से पहले ही  मौत हो चुकी थी. युवक की गला घोंट कर हत्या की गई थी. चीनोर पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया. लगभग 20 दिन बाद मरने वाले की शिनाख्त हुई.

पत्नी ने दर्ज कराई गुमशुदगी की रिपोर्ट
दरअसल मरने वाला  देवरी कला गांव रहने वाला 30 साल का परीक्षित सिंह रावत के रूप में हुई. जिले के बेलगढ़ा थाना में परीक्षित के गुमशुदा होने की रिपोर्ट थी. पत्नी बसंती रावत ने अपने पति परीक्षित गुमशुदगी दर्ज कराई है. परीक्षित 4 सितंबर से घर से गायब हुआ था. जांच में हत्या का राज खुला तो पत्नी की बेवफाई की कहानी सामने आई है.

प्रेमी से कहा इस उसके लिए नहीं रखेगी करवाचौथ का व्रत
ग्वालियर जिले के देवरी गांव में रहने वाले 30 साल के परीक्षित रावत की शादी 2010 में बसंती रावत के साथ हुई थी. 11 साल के अरसे में दोनों के घर 2 बच्चों का जन्म हुआ. 7 साल की बेटी और एक 5 साल का बेटा है. पति परीक्षित नशे का आदी था. छोटा मोटा काम कर अपना खर्च चलाता था. परीक्षित की हरकतों से पत्नी बसंती परेशान थी. सालभर पहले बंसती से गांव के ही मनीष रावत की दोस्ती हो गई. मनीष आईटीआई का छात्र था. दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठे. परीक्षित घर से बाहर जाता तो बसंती खुद से 9 साल छोटे प्रेमी के साथ मौज करने लगी.

एक दिन बसंती ने प्रेमी मनीष को बताया कि पति उसे बेरहमी से पीटता है. बीते 4 सितंबर की रात भी परीक्षित नशे में धुत होकर पहुंचा और बेसुध होकर सो गया. तभी बसंती ने प्रेमी मनीष को फोन कर बताया कि कुछ भी करना पड़े, लेकिन इस बार का करवा चौथ का व्रत मैं पति के लिए नही रखना नहीं चाहती हूं. ये सुनकर मनीष बसंती के घर पहुंचा. दोनों बच्चाें को मोबाइल देकर गेम खेलने में लगा दिया. इसके बाद पत्नी बसंती और  प्रेमी मनीष ने परीक्षित की गला दबाकर हत्या कर दी.

घर मे 24 घंटे लाश के रही बंसती
4 सितंबर की रात बसंती ने प्रेमी मनीष के साथ मिलकर पति की हत्या की थी. रात ज्यादा होने से मनीष के लिए अकेले परीक्षित की लाश को ठिकाने लगाना नामुमकिन था. लिहाजा रात को लाश में घर के अंदर ही रखाना पड़ा. बसंती ने पति को पलंग के नीचे लेटा दिया और खुद भी बिस्तर पर लेटी रही. जिससे बच्चों को अहसास न हो कि पिता मर चुके हैं. बसंती ने अपने बच्चाें को बताया कि पापा सो रहे हैं. दूसरे दिन 5 सितंबर की रात 11 बजे मनीष अपने दोस्त रवीन्द्र रावत को लेकर आया. दोनों ने बाइक पर परीक्षित की लाश को बीच में ऐसे बैठाया, जैसे लोगों को लगे कि तीन युवक बाइक पर बैठकर जा रहे हैं. रास्ते में  एक बार लाश नीचे भी गिर गई, पर दोनों ने उठाकर वापस बैठाया. लाश को किसी तरह चार किलोमीटर तक  बाइक ले जा नहर फेंक दी.

माशूका की एक सिम ने खोल दिया राज
पुलिस ने बताया कि बसंती के पास आठ मोबाइल सिम थी. पुलिस ने प्रेमी के नम्बर की जांच की तो एक खास नम्बर पर लगातार बातचीत हुई. इसी आधार पर पुलिस ने प्रेमी मनीष को उठाया. पूछताछ में मनीष और बसंती ने हत्या की पूरी कहानी उगल दी. पुलिस ने मनीष का सहयोग करने वाले रविन्द्र को भी दबोच लिया है.

Tags: Gwalior news, Madhya pradesh news, Murder case

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर